उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
Nagpur Police Tweet
Nagpur Police Tweet|Tweeter 
वायरल बुलेटिन

नागपुर पुलिस ने ट्वीट करके देश का दिल जीत लिया, कहा विक्रम जवाब दो ! 

चाँद पर लैंडर विक्रम लेकिन जवाब नहीं दे रहा।

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

चंद्रयान द्वतीय के चंद्रमा पर हार्ड लैंडिंग के बाद सारे देश की नजरें केवल लैंडर विक्रम के जवाब पर टिकी हुई है, एक ओर जहां भारतीय स्पेस रिसर्च ऑर्गनाइजेशन हाड़ तोड़ मेहनत किये जा रहा है, वही सारा हिंदुस्तान एक सुर में लैंडर विक्रम के साथ कम्युनिकेशन स्थापित होने की दुआएं मांग रहा है, इसी क्रम में नागपुर पुलिस ने एक ट्वीट करके सारे देश का दिल लिया है !

नागपुर पुलिस ने दिल को बेहद करीब से छू लेने वाला ट्वीट किया है ,”प्यारे विक्रम , जवाब दे (हाँथ जोड़े हुए इमोजी के साथ) हम आपका चालान सिग्नल तोड़ने के जुर्म में नही काटने जा रहे है”

नागपुर पुलिस के द्बारा किया गया ट्वीट पंद्रह हजार से ज्यादा बार रिट्वीट किया जा चुका है, और लाखों की संख्या में इस विनम्र अनुरोध को ह्रदय से सराहा जा रहा है।
दरअसल भारत मे चंद्रयान अब सिर्फ विज्ञान के परीक्षण तक सीमित नही रहा, बल्कि अब यह देश की महत्वाकांक्षा का सवाल बन चुका है, क्या जाति, क्या धर्म, क्या शिक्षित क्या अनपढ़ सभी भारतवासी इस सपने को करीब 10 सालों से पाल कर बैठे हैं।

विक्रम मिल तो गया लेकिन जवाब पाना बांकी है:

हालकि चंद्रयान 2 के ऑर्बिटर ने अपना काम किया हाई रेजोल्यूशन थर्मल कैमरे की मदद से  विक्रम की निर्धारित जगह के करीब 500 मीटर दूर तश्वीर कैद की, और चित्रों का अध्ययन करके इसरो ने यह पता लगाया कि लैंडर की लैंडिंग भले ही हार्ड हुई हो, लेकिन लैंडर पूरी तरह सुरक्षित दिख रहा है, और इसी पर कयास लगाए जा रहे है कि अगर लैंडर सुरक्षित है तो संभवता रोवर प्रज्ञान भी सुरक्षित ही होगा, अब केवल लैंडर से संपर्क स्थापित होना बांकी है जिसके लिए सारा देश एक सुर से कामना कर रहा है, और इसरो इस काम के लिए अपनी पूरी ताकत के साथ मेहनत कर रहा है

कुतर्कियों के अपने मजे है:

सारा देश जहां एक ओर बिना जाति-धर्म और समुदाय की भावना से एक सूत्र में बंधकर विक्रम के जवाब के इंतजार में पलक पाँवड़े बिछाए बैठा है, वही कुछ राजनेता इस पर भी राजनैतिक मंशा का मशाल जलाकर बैठे है, उन्हें जाति धर्म और कुतर्कों से ही फुर्सत नही है,
डॉ उदित राज कांग्रेस के नेता है, उन्होंने इस ऑटोमेटिक तकनीकी समस्या का ठीकरा इसरो द्वारा लांच के पहले कराई गई पूजा पर फोड़ दिया

हालांकि भारतीयों ने उन्हें ट्वीटर पर ही ऐसे ऐसे जवाब दिए , की अगली बार उन्हें इस तरह के ट्वीट करने से पहले हजार बार सोचना होगा।