उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
जोमैटो का जवाब 
जोमैटो का जवाब |Social Media
वायरल बुलेटिन

जोमैटो पर लगा समाज में नफरत फ़ैलाने का आरोप, यूजर बोले ब्लॉक करो इसे 

जोमैटो की तरकीब उसपर ही भारी पड़ गई। 

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

ऑनलाइन फ़ूड डिलीवरी वेबसाइट जोमैटो सोशल मीडिया में अक्सर ट्रोलिंग का शिकार होता रहता है और आज एक बार फिर जोमैटो एक ट्वीट के कारण ट्रोल हो गया। यह ट्वीट धर्म से जुड़ा था। दरअसल एक कस्टमर ने जोमैटो के खाना आर्डर किया, और जब कस्टमर तक उसका आर्डर पहुंचा तो उसने खाना लेने से मना कर दिया क्योंकि जोमैटो का डिलीवरी बॉय मुस्लिम था।

जोमैटो का जवाब 
जोमैटो का जवाब 
Social Media

लेकिन जब जोमैटो को इसका पता था तो उसने कस्टमर को एक करारा जवाब दे दिया। जोमैटो ने लिखा कि 'खाने का कोई धर्म नहीं होता, खाना खुद एक बड़ा धर्म है।'

जोमैटो ने पहले ये जवाब अपने ट्विटर में शेयर किया उसके बाद जोमैटो के फाउंडर दीपेंद्र गोयल ने भी इसे शेयर किया, और लिखा कि 'हमें भारत के विचारों और हमारे सम्मानित ग्राहकों और पार्टनरों की विविधता पर गर्व है । अगर हमारे इन मूल्यों की वजह से हमें बिज़नेस में थोड़ा नुकसान होता हो तो हमें इससे दुख नहीं होगा।

जोमैटो और उसके फाउंडर ने जिसतरह इस मामले को संभाला उसकी हर कोई तारीफ कर रहा है। सोशल मीडिया में लोग इस ट्वीट को खूब शेयर कर रहे हैं लेकिन कुछ लोग इस ट्वीट पर जोमैटो को खरी-खोटी भी सुना रहे हैं और जोमैटो पर हिन्दू-मुस्लिम के साथ भेदभाव करने का आरोप लगा रहे हैं।

दरअसल मंगलवार को पंडित अमित शुक्ला ने जोमैटो से अपना आर्डर कैंसिल और उन्होंने ट्विटर पर इसकी शिकायत करते हुए लिखा कि -मैंने अभी-अभी जोमैटो से आर्डर कैंसिल किया है क्योंकि उसने एक नॉन हिन्दू डिलिवरी बॉय भेजा था और अपनी इस शिकायत के साथ ही उन्होंने एक स्क्रीनशॉट भी शेयर किया। जिसपर जोमैटो ने उन्हें फटकार लगा दी।

जोमैटो का जवाब 
जोमैटो का जवाब 
Social Media

इस मामले के बाद लोगों ने कई ट्वीट किए अंकुर सिंह नाम के यूजर ने ट्वीट करते हुए एक स्क्रीनशॉट शेयर किया। जिसमें वाजिद नाम के एक मुस्लिम युवक ने अपने खाने का आर्डर इसलिए कैंसिल किया था क्योंकि उसे जोमैटो में हलाल नॉन-वेज नहीं मिला था और जब वाजिद ने उसकी शिकायत की तो जोमैटो ने उसे सहायता करने का आश्वासन दिया।

जोमैटो का धार्मिक ज्ञान अब उनपर ही भारी पड़ गया, सोशल मीडिया में लोग जोमैटो को ब्लॉक् करने की मांग करने लगे और जोमैटो बुरी तरह ट्रोल हो गया। जोमैटो पर समाज में नफरत फ़ैलाने का आरोप लगा है।