उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
Richa Bharat
Richa Bharat|Social Media
वायरल बुलेटिन

आखिर कौन है ऋचा भारती जो एका-एक सोशल मीडिया स्टार बन गई, और बीजेपी नेता उसके लिए हर तरह की मदद के लिए तैयार हैं 

ऋचा भारती को अपनी फेसबुक पोस्ट के पहले लिखना चाहिए था ‘मेरे पोस्ट का किसी धर्म से कोई लेना देना नहीं है’

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

सोशल मीडिया पर आज झारखंड की स्टार स्टूडेंट ऋचा भारती की चर्चा हो रही है। ट्वीटर पर #Richa Bharti पहले नंबर पर ट्रेंड कर रहा है। लेकिन झारखंड की राजधानी रांची में रहने वाली ऋचा रातों-रात स्टार कैसे बन गईं ? उन्हें जेल क्यों जाना पड़ा ? फिर उन्हें अचानक जमानत भी मिला और रिहा करते हुए कोर्ट ने अजीबो-गरीब सजा क्यों दी ? इन सारे मामले में सबसे ज्यादा मजेदार मामला ऋचा को मिले सशर्त जमानत का है। अगर कोर्ट ने यह फैसला नहीं सुनाया होता तो शायद यह बखेड़ा नहीं हुआ होता।

दरअसल ऋचा भारती ग्रेजुएशन फाइनल ईयर की स्टूडेंट हैं और सोशल मीडिया में खूब एक्टिव रहती हैं। 19 साल की ऋचा पर आरोप लगाया गया है कि उन्होंने एक धर्म विशेष के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी की है। जिसके लिए उन्हें दो दिन तक जेल में डाला गया और फिर जमानत मिल गई वो भी सशर्त जमानत। उनकी रिहाई करते हुए रांची के न्यायिक दंडाधिकारी साहब (मनीष कुमार सिंह) ने कहा कि ऋचा को 15 दिन के अंदर क़ुरान की पांच कापियां बांटनी होगी। अगर वो ऐसा नहीं करती हैं तो उनकी जमानत रद्द हो जाएगी। कोर्ट के फैसले को मानने से ऋचा ने साफ़ इंकार कर दिया। ऋचा कोर्ट के फैसले से खुश नहीं है।

अपनी रिहाई के बाद ऋचा कहती हैं “ मैंने कोई गलत पोस्ट नहीं किया है। मैं कोर्ट के इस फैसले के खिलाफ रांची हाई कोर्ट जाउंगी। आज बोल रहे हैं क़ुरान बांटो कल बोलेंगे मुसलमान बन जाऊ। कभी कोई हिन्दू आतंकवाद के पक्ष में नहीं बोलता लेकिन हर मुसलमान आतंकवाद को सपोर्ट करता है। मुझे मेरे सवाल का जवाब चाहिए।”

वहीं, इस मुद्दे पर बीजेपी नेता तजिंदर पाल सिंह बग्‍गा ने ट्वीट किया-

ऋचा को क्यों जाना पड़ा जेल

दरअसल 12 जुलाई को ऋचा ने सोशल मीडिया पर एक पोस्ट लिखा। जिसके खिलाफ सदर अंजुमन कमेटी ने रांची के पिटोरिया थाने में शिकायत दर्ज कराई । जिसमें कहा गया कि ऋचा अपने सोशल मीडिया अकाउंट में धर्म विशेष के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी पोस्ट करती हैं। ऋचा की इस हरकत से क्षेत्र में धार्मिक भावना भड़क सकती है। FIR दर्ज होने के 3 घंटे बाद पुलिस ने ऋचा को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया ऋचा के जेल जाते ही हिंदू संगठनों ने थाने के बाहर धरना-प्रदर्शन शुरू कर दिया था।

इस मामले पर बीजेपी नेता प्रतुल शाहदेव कहते हैं कि "कोर्ट का फैसला चौंकाने वाला था। मैंने कोर्ट का पूरा फैसला तो नहीं पढ़ा है पर मीडिया से पता चला मुझे। मैंने इस तरह का फैसला इतिहास में कभी नहीं देखा था।"