2020 ने सिर्फ हालात ही नही खराब किये, फिल्मों को लेकर लोगों का नजरिया बदल दिया। बतोले चचा ने दो-चार फिल्में देखी है, उन्हीं से कहानी सुनो

2020 में कोरोना के साथ-साथ बॉलीवुड की फिल्मों ने भी दिमाग का दही कर दिया
2020 ने सिर्फ हालात ही नही खराब किये, फिल्मों को लेकर लोगों का नजरिया बदल दिया। बतोले चचा ने दो-चार फिल्में देखी है, उन्हीं से कहानी सुनो
2020 ने सिर्फ हालात ही नही खराब किये, फिल्मों को लेकर लोगों का नजरिया बदल दियाGoogle Image

भैया एक तो 2020 में कोविड ने जान हलक में अटका दी थी, दूसरा कुछ बॉलीवुड फिल्मों ने। कभी कभार तो ऐसा लगा कि ओटीटी सब्क्रिप्शन को वापस मंगवा कर आत्महत्या कर ली जाए। काहे की पानी सर से ऊपर निकल गया। खासकर तीन फिल्में जो या तो किसी पुरानी फ़िल्म अगला भाग थी या फिर रीमेक, कुल मिलाकर इन फिल्मों ने सब कुछ हिला दिया।

बागी 3:

गुरु फ़िल्म न कहो पक्का वाला टार्चर कहो, फ़िल्म को देखकर खुफिया सूत्रों ने तो ये तक बताया कि अगली बार मोदी जी सर्जिकल स्ट्राइक के लिए टाइगर श्रॉफ का चुनाव तक कर चुके है। काहे कि वन मैन आर्मी है, न किसी हथियार की जरूरत है और न ही किसी भारी भरकम फ़ौज की। सूत्रों ने बताया कि मोदी जी कहते सुने गए है कि जो आदमी सीरिया के आतांकियो को घुटनों पर ला सकता है उसके लिए ये पाकिस्तानी आतंकी तो मानो कुत्ते बिल्ली का खेल होगा। खैर इस मूवी ने अपने फ्लॉप होने के झंडे गाड़े और सोशल मीडिया में ऐसी कुछेक बातों की पुष्टि की गई कि फ़िल्म को देखने के बाद कुछ लोगों मे मानसिक बीमारियां पाई गई है।

सड़क 2:

गुरु ऐसी फिल्म जो आपकी मानसिक स्थिति को खराब करके आपको सड़क पर बिठा दे। दरअसल इस फ़िल्म के पहले ही संजय दत्त अपने निजी जीवन की परेशानियों से जूझ रहे थे सो उन्होंने अपने कुछ कष्ट फ़िल्म के माध्यम से लोगों को बांटने चाहे जिसमें संजय बखूबी सफल भी हुए है। 28 अगस्त को आई इस फिल्म ने लोगों के सोचने समझने की क्षमता को काफी प्रभावित किया, कुछ वक्त के लिए तो लोगों को ऐसा लगा कि ये कोरोना वोरोना सब वहम है, असली दर्द तो सड़क 2 है, जिसे महेश भट्ट ने एक लंबे अरसे बाद बनाया था, इस फ़िल्म में महेश भट्ट की दूसरी बेटी आलिया भट्ट और पुरानी फ़िल्म के मुख्य अभिनेता संजय दत्त शामिल थे।

कुली नंबर वन:

अगर आपने गोविंदा की कल्ट फ़िल्म कुली नम्बर वन देखी है और ये फ़िल्म आपको गुदगुदाने का काम करती है तो डेविड धवन की दूसरी फिल्म (रीमेक) कुली नम्बर वन देखने का साहस मत कीजिये। आपका फिल्मों पर से विश्वास उठ जाएगा। फिजिक्स, केमेस्ट्री, इश्क, प्यार, बदला ये सब भावनाएं और विज्ञान इस फ़िल्म के सामने दंडवत करते नजर आते है। दरअसल एक वक्त था जब पुरानी कुली नम्बर वन आयी थी तो लोगों ने गोविंदा की एक्टिंग, लोकप्रियता, गाने के चक्कर मे जमकर सराही उसी का लाभ उठाने के लिए धवन ने अपने पुत्र मोह में वरुण धवन को इस फ़िल्म के जरिये लोगों के सामने पेश किया लेकिन फ़िल्म का मिजाज ऐसा रहा कि लोगों के होश फाख्ता हो गए। इस फ़िल्म को देखने के बाद लोगों मे मिर्गी जैसे दौरे आने की शिकायतें भी दर्ज की गई।

लोगों ने किसान आंदोलन के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से पत्र लिखकर अपील की है कि जिन्होंने इस बुरे वक्त में इस तरह की फिल्में पूरी की पूरी देखी है उन्हें अबकी बार की 26 जनवरी में राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार दिया जाना चाहिए।

डिस्क्लेमर: हद्द है अब मजाक भी नही कर सकते, भैया नवा नवा साल आ गया है थोड़ा तो दिमाग को हल्का कर लो

⚡️ उदय बुलेटिन को गूगल न्यूज़, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें। आपको यह न्यूज़ कैसी लगी कमेंट बॉक्स में अपनी राय दें।

Related Stories

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com