बाबरी मस्जिद के ध्वस्त होने की बरसी पर स्वरा भास्कर ने भड़काया मुद्दा

फ़िल्म अभिनेत्री स्वरा भास्कर अपने बेवजह बयानों के लिए जानी जाती है। कभी कभार तो उनके बयान उनके खुद के लिए फजीहत खड़ी कर देते है लेकिन मजाल क्या की वो अगले बयान से चूकें।
बाबरी मस्जिद के ध्वस्त होने की बरसी पर स्वरा भास्कर ने भड़काया मुद्दा
बाबरी मस्जिद के ध्वस्त होने की बरसी पर स्वरा भास्कर ने भड़काया मुद्दाUday Bulletin

स्वरा ने अब अपना बयान उस बाबरी मस्जिद के ध्वस्त होने को लेकर दिया है जिसका फैसला सुप्रीम कोर्ट पहले ही कर चुका है, मामले में बवाल होना संभावित है।

स्वरा ने कहा, जो भी हो भगवान का घर नही तोड़ना चाहिए था:

वैसे तो आज का दिन अयोध्या में पहले की अपेक्षा बेहद शांत रहा, अयोध्या में न तो किसी ने "राम लला हम आएंगे, मंदिर वहीँ बनाएंगे" के नारे लगाए और न ही किसी ने बाबरी मस्जिद के शहीदी दिवस को मनाकर रोष जताया। कुल मिलाकर ये मामला बेहद शांत रहा। हाँ छुटपुट घटनाओं में उत्तर प्रदेश के अन्य जगहों पर लोगों ने पोस्टर जरूर लगाये लेकिन स्थानीय प्रशासन ने इसे बेहद शालीनता और अपने पुलिसिया ढंग से संभाल लिया। लेकिन दोपहर होते-होते फ़िल्मी दुनिया से बयानों की मशीन अभिनेत्री स्वरा भास्कर ने एक ट्वीट करके ज्ञान दे दिया जो लगभग उन्हीं पर भारी पड़ गया, स्वरा ने ट्वीट में लिखा:

"चाहे जितनी लीपा पोती कर लो, भगवान का घर.. किसी के भी भगवान का घर तोड़ना पाप होता है"

असली ट्वीट देखिए:

क्या है स्वरा का तर्क?

अभिनेत्री स्वरा भास्कर का तथ्य कोई नया नही है और गलत भी नही लेकिन यह तर्क अधूरा और अपूर्ण है इसलिए इसको लोगों ने वह मान्यता नही दी जिसके लिए वह हकदार थी।

दरअसल स्वरा ने बाबरी मस्जिद को ध्वस्त किये जाने पर अपना रोष जताया और कहा कि लीपापोती करने का कोई फायदा नही है। किसी भी भगवान के घर को तोड़ना पाप होता है, स्वरा की बात बेहद सही है, क्या मस्जिद क्या मंदिर किसी भी धार्मिक स्थल को तोड़ना किसी भी नजरिये से स्वीकार्य नही है। लेकिन स्वरा के इस ट्वीट के बाद लोगों के रिएक्शन आने शुरू हो गए। लोगों ने स्वरा को दोगले मानसिकता वाली महिला भी बताया।

लोगों ने कहा कि जिस बाबर ने राम मंदिर को तुड़वाकर मस्जिद तामीर कराई, उसने क्या किया था ?

लोगों ने स्वरा को मथुरा की ज्ञान वापी के प्रत्यक्ष उदाहरण देकर सवाल दागे कि आपका ज्ञान इन मुद्दों पर कहाँ मर जाता है? जबकि यह मस्जिद भी मंदिर को तोड़कर बनाई गई थी।

⚡️ उदय बुलेटिन को गूगल न्यूज़, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें। आपको यह न्यूज़ कैसी लगी कमेंट बॉक्स में अपनी राय दें।

Related Stories

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com