रामदास अठावले ने जारी किया नया नारा, दूर होगा नया कोविड स्ट्रेन

रामदास अठावले ने कहा मैंने कोरोना को भगा दिया
रामदास अठावले ने जारी किया नया नारा, दूर होगा नया कोविड स्ट्रेन
रामदास अठावले ने जारी किया नया नारासोशल मीडिया

भारत वह देश है जहाँ पर कोरोना जैसी महामारी को लेकर भी जोक बनाये गए और इसकी फजीहत तो तब हुई जब इन मजाकों को सत्ता के गलियारों में प्रयोग किया गया, भारत मे केंद्रीय मंत्री और रिपब्लिकन ऑफ इंडिया के प्रेसिडेंट रामदास अठावले कोरोना को लेकर मजाक के मूड में नजर आ रहे है, इससे पहले भी रामदास का लोकप्रिय नारा "गो कोरोना गो" बेहद चर्चा में रहा था, अब उन्होंने इसी तर्ज पर नया नारा पेश किया है"

कहा नया नारा ज्यादा कारगर होगा:

खुद कोरोना से संक्रमित हो चुके केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने कोरोना काल मे नया नारा पेश किया है केंद्रीय मंत्री ने बताया कि पुराने नारे "गो कोरोना गो" का व्यापक असर पड़ा है, भारत से अब कोरोना जा रहा है, इस नारे की वजह से कोरोना ने अब अपना प्रभाव दिखाना कम कर दिया है, लेकिन चूंकि ब्रिटेन समेत अन्य देशों में कोरोना का नया स्ट्रेन मिला है जो पहले के कोरोना से ज्यादा खतरनाक है गो उसे दूर करने के लिए नया नारा "नो कोरोना नो" ज्यादा कारगर रहेगा इससे कोरोना भारत मे प्रभावी नही होगा।

कैसा था पुराना नारा:

रामदास अठावले अपनी बातों को मजाकिया लहजे में कहने के लिए जाने जाते है सो जिस वक्त भारत मे कोरोना अपना पैर पसार रहा था उस वक्त केंद्रीय मंत्री एक गायन शैली में गो कोरोना गो कहकर कोरोना भगाते हुए नजर आए थे, हालाँकि इस बयान पर लोगों ने केंद्रीय मंत्री का जमकर मजाक भी उड़ाया था।

लोगों ने कहा रामदास जी को ऑस्कर दिलाइये...

बेहद खतरनाक है नया स्ट्रेन:

हालांकि भारत मे वैक्सिनेशन होने की लगभग सभी तैयारियां अपने अंतिम चरण में है लेकिन कोरोना की नई स्ट्रेन ने लोगो को चिंता में डाल दिया है, जानकारों का मानना है कि यह स्ट्रेन पुराने कोरोना से 70 प्रतिशत तक ज्यादा खतरनाक है, हालांकि इस पर भारत के वैज्ञानिकों ने एक पाजिटिव जानकारी दी है वैज्ञानिकों के अनुसार आम तरीके से कोरोना एक माह में दो बार अपना रूप (म्यूटेशन) बदल रहा है तो संभावना है कि नए स्ट्रेन के लिए भी वही वैक्सीन कारगर होनी चाहिए।

⚡️ उदय बुलेटिन को गूगल न्यूज़, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें। आपको यह न्यूज़ कैसी लगी कमेंट बॉक्स में अपनी राय दें।

Related Stories

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com