मुनव्वर राणा ने 100 करोड़ भारतीयों को कहा जानवर, ट्विटर एकाउंट हुआ सस्पेंड

मोदी सरकार आने के बाद सहिष्णुता के मुद्दे पर अपना अवार्ड वापस कर चुके हैं मुन्नवर राणा। लाइमलाइट में बने रहने के लिए मुन्नवर (Munawwar Rana) सोशल मीडिया में उलूल जुलूल हरकतें करते रहते हैं।
मुनव्वर राणा ने 100 करोड़ भारतीयों को कहा जानवर, ट्विटर एकाउंट हुआ सस्पेंड
Munawwar Rana controversial TweetUday Bulletin

कवियों और शायरों को पुराने समय राजशाही से ही तीखा बोलने की आजादी मिलती आयी है ताकि राजा और प्रजा को गलत रास्ते पर जाने से बचाया जाए लेकिन वर्तमान के परिप्रेक्ष्य में शायर मुनव्वर राणा इस आजादी का गैरजरूरी आनंद ले रहे हैं।

वैसे तो मुनव्वर राणा आपको याद होंगे, नही है तो बताये देते हैं, अवार्ड वापसी का जो चलन चला था उसमें मुनव्वर बड़े जोर शोर से शामिल थे। खैर कोई कहीं भी शामिल हो सकता है, निजी जिंदगी है। अबकी बार मुनव्वर का निशाना बीजेपी के प्रवक्ता डाक्टर संबित पात्रा बने, जिसमें उन्होंने संबित के अलावा भाजपा सरकार पर कोरोना की नाकामी का ठीकरा फोड़ा। मुनव्वर को आपत्ति थी कि जमती शब्द को क्यों लगाया गया, एक सहिष्णु शायर धर्म के आड़े आते ही कैसे बदल जाता है ये देखने लायक था।

लेकिन जनता तो जनता है वो सब जानती है कि मुनव्वर साहब (Munawwar Rana) ने रंग कैसे बदला यही कारण है कि ट्विटर पर एक लामबंदी हुई और दबाव बनाया जाने लगा।

मुनव्वर को आजम खां से कितनी दिलचस्पी है ये भी सामने आ गया:

खैर जब दबाव बना तो मुनव्वर ने रंग बदलने की कोशिश की, माहौल को हल्का करने के लिए वीडियो भी बनाया, लेकिन कुछ खास फर्क नहीं पड़ा।

मुनव्वर ने नरम होने की हद भी बताई:

लेकिन रायता फैलने के बाद मुनव्वर कुछ भी करते, भारत की 100 करोड़ की आबादी (हिन्दुओं) को बुरा भला कहा और ट्विटर ने आनन-फानन में मुनव्वर का एकाउंट बन्द कर दिया।

⚡️ उदय बुलेटिन को गूगल न्यूज़, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें। आपको यह न्यूज़ कैसी लगी कमेंट बॉक्स में अपनी राय दें।

No stories found.
उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com