kangana ranaut on kashmiri pandit murder
kangana ranaut on kashmiri pandit murder|Google Image
नजरिया

कश्मीरी पंडित की मौत पर कंगना ने निकाला गुस्सा, कहा भेड़ की खाल में छुपे हुए भेड़िये है

कश्मीरी पंडित की हत्या पर अवार्ड बापसी गैंग की चुप्पी, जेहादी सोच का नतीजा है

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

देश में असहिष्णुता का माहौल तब पैदा होता है जब देश मे कोई समुदाय विशेष के व्यक्ति के साथ घटना होती है तो अवार्ड वापसी गैंग समेत तमाम लोग सीना फाड़ देते है लेकिन अगर वही घटना दूसरे पक्ष के साथ होती है तो लोगों को तकलीफ तक नहीं होती। इस मामले पर कंगना समेत अन्य लोगों का दर्द छलक उठा है।

कंगना ने कहा सब ढकोसले है:

कंगना ने फिल्मी दुनिया समेत अन्य समाजसेवियों (सो काल्ड लिबरल) के ऊपर निशाना साधते हुए कहा कि जम्मू कश्मीर के अनंतनाग में कश्मीरी पंडित की पर किसी व्यक्ति की आह नहीं सुनाई दी, जबकि ये मुद्दा होना चाहिए था। कंगना के अनुसार कश्मीरी पंडितों ने पूर्व में जो सहा है वो फिर दोहराया जा रहा है। कंगना ने ट्विटर पर कार्ड लेकर विरोध जताते हुए कहा कि जो बुद्धिजीवी हर मौके पर कार्ड लेकर विरोध जताने निकल पड़ते है उनका असल रंग सांमने आ चुका है जब किसी और जगह ऐसी कोई घटना होती है तो इस मुद्दे को अंतरराष्ट्रीय बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ी जाती लेकिन इस मुद्दे पर आखिर सब चुप क्यों हैं? किसी ने घटना से आहत होकर अवार्ड वापस नहीं किया और न ही किसी ने दुख जताया।

गायब हुआ विरोध:

कंगना के अनुसार जो बुद्धिजीवी मौका पाकर मोमबत्ती, पेट्रोल बम, कार्ड, पत्थर लेकर निकल पड़ते है देश को जलाने के लिए। लेकिन कश्मीर में हुए नृशंस हत्याकांड में किसी को कोई तकलीफ नहीं हुई। कंगना ने आरोप लगाया कि ये जेहादी मानसिकता वाले लोग है जो हमेशा भेड़ की खाल में भेड़ियों के होने जैसा है। जो अक्सर सेक्युलरिज्म की खाल पहन कर रहते हैं। अगर समुदाय विशेष के साथ कोई घटना होती है तो लोग अपना सीना फाड़ देते है लेकिन अगर यह वाकया किसी हिन्दू के साथ होता है तो किसी को कोई फर्क नहीं पड़ता।

अनुपम खेर भी जाहिर कर चुके है गुस्सा:

अनंतनाग में हुई हत्या के विरोध में फिल्म कलाकार अनुपम खेर अपनी बात रख चुके हैं। अनुपम खेर के अनुसार ये कुत्सित मानसिकता देश को गर्त में ले जा सकती है।

उदय बुलेटिन के साथ फेसबुक और ट्विटर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com