pakistani minister shaikh rasheed ahmed comedy
pakistani minister shaikh rasheed ahmed comedy|Uday Bulletin
ब्लॉग

पाकिस्तान के साइंसदान सच मे बहुतै गजब है, मतलब धर्म देखकर जान लेंगे, अब बतोले चचा ज्ञान देंगे।

पाकिस्तान के मंत्री ने कहा हमारे पास पाव और आधा पाव के ऐटम बम भी हैं जो सिर्फ काफिरों को मारेगा, मुस्लिमों को खरोंच तक नहीं आएगी।

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

देखो पाकिस्तान पहले से ही गजब के आविष्कार करता आ रहा है अर्थशास्त्र में तो उनका कोई तोड़ ही नही है, सरकारी गधे और भैंसे बेचकर देश का राजस्व बढ़ा लेते है, खैर अब परमाणु बम भी अलग प्रकार के बनाये जाने लगे हैं और इस मामले में कर्री वाली जानकारी दी है पाकिस्तान के एक वजीर ने, सच्ची में वजीर है वो भी छकपक छकपक वाली रेलगाड़ी के।

भारत ने अगर हमला किया तो हम जेब से परमाणु बम खींच के मारेंगे:

मुये परमाणु बम न हुए मूँगफली के दाने हो गए, आलू भुजिया हो गए, मानो पाकिस्तान का हर सिपाही अपनी जेबों में 10-20 परमाणु बम लिए घूम रहा हो। दरअसल पाकिस्तान में एक मंत्री है, एक ऐसे कहा काहे की मंत्री और संतरी सब वहां के आगरे लायक है लेकिन अभी बात हम केवल उनकी करेंगे जो हर वक्त प्रकृति विरुद्ध, ज्ञान हीन बातों को करने के लिए ऑक्सफोर्ड से डिप्लोमा लेकर आये है नाम है शेख रशीद अहमद। शेख सिर्फ नाम के है कोई तेल वेल का कुंआ नही है इनके पास। इनका जीवन इतना संकट में रहता है कि अगर इन्हें किसी मजलिस में बोलते वक्त माइक से करेंट लग जाये तो इसके लिए मूडी (इन्हें मोदी नहीं मूडी कहना आता है) जिम्मेदार होता है। तो अबकी बार साहब ने बताया है कि अगर इस बार भारत से जंग हुई और भारत ने अपनी तरफ से कोई हमला किया तो पाकिस्तान अबकी बार एक बार में ही किस्सा खत्म कर देगा। कोई पारंपरिक युद्ध नहीं होगा, कोई टैंक और बंदूकें नहीं चलेगी बस केवल परमाणु बम निकलेंगे वो भी सौ-सौ ग्राम के, कोई आधा किलो का तो कोई पाव किलो का और उन्हें इस तरीके से विकसित किया गया है कि वह आदमी की नस्ल, धर्म देखकर हिंदुस्तान में फटेंगे, ताकि उससे मुस्लिम जिंदा रहे और बाकी काफिर मर जाये।

जनाब का नमूना देखो:

कारण क्या है:

देखिए जिनके ज्ञान में कभी विज्ञान का पाला ही न पड़ा हो, जिन्हें दीन दुनिया सिर्फ कुछ मजहबी किताबों में नजर आती हो उनसे ज्ञान और तर्क की उम्मीद रखना ही बेकार है। वैसे शेख साहब का इसमें कोई खास दोष नजर नहीं आता, दरअसल शेख साहब जिन शमा न्यूज़ के पत्रकार के सामने जिस प्रकार के अद्भुद बमों की चर्चा कर रहे है असल में दोष उनका है। मुझे लगता है अगर उन्होंने थोड़ी सी भी फिजिक्स पढ़ी होगी तो उन्होंने अपनी कई रातें करवटें बदल कर निकाली होंगी, कि आखिर कोई आदमी इत्ता ज्यादा झूठ इत्ते कॉन्फिडेंस से कैसे बोल सकता है।

आखिर ऐसा बोलते क्यों है?

अब देखो सीधी सी बात है जिस पाकिस्तान का ये पता न हो कि कल की सुबह वह कोई देश रहेगा भी या नही उसे अपना वजूद बचाने के लिए कुछ न कुछ तो करना ही पड़ेगा। दरअसल लोगों का मनोरंजन कराना पाकिस्तान की सरकार का मुख्य पेशा है ओर इस मामले की पूरी जिम्मेदारी शेख साहब को मिली है तो साहब कैसे चुप रह सकते है। वैसे भी जिसका दुनिया मे नाम खराब हो गया हो, घर मे खाने के लिए दाने न हो उसका इस तरह बातें करना मानसिक तनाव का उम्दा उदाहरण माना जा सकता है।

उपाय:

देखिए एक बार भारतीय प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी जी ने कहा था कि हम पड़ोसी चुनते नहीं है बल्कि वो होते है, उन्हें बदला नहीं जा सकता। अब जब हम यह जानते ही है कि उसका मानसिक संतुलन ठीक नहीं है तो उसकी बातों को केवल मनोरंजन के तौर पर लिया जाना चाहिए। आखिरकार एक थका हारा, टूटा हुआ आदमी ऐसे ही बातें करता है।

डिस्क्लेमर: ये हमारा बतोले चचा का लाइट हार्टेड सेगमेंट है, भाषा को मनोरंजक तरीके से किया जाता है, आप शब्दों की स्थिति और संयोजन अपने हिसाब से कर सकते हैं अगर आपको लेख से संबंधित कोई आपत्ति होती है तो कृपया उसे अपने पास ही रखे। हम आज भी अपने बयान वापस नहीं करते।

उदय बुलेटिन के साथ फेसबुक और ट्विटर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com