acharya pramod krishnam and Batole Chacha
acharya pramod krishnam and Batole Chacha|Uday Bulletin
नजरिया

बाबाजी ने बताया पचास ग्राम गांजा तो बाबाओं की चिलम में आ जाता है

एक बाबाजी है आचार्य प्रमोद नाम के, कहने को बाबा है लेकिन है कांग्रेसी नेता हैं, आज उन्होंने बताया कि बाबाओं को चिलम में गांजा भरने की क्षमता कितनी होती है, बतोले चचा से सुनो पूरी बात।

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

देखो जी बाबाओं की राम माया है, अब बाबा केवल कुम्भ में चिमटा बजाते हुए ही नहीं पार्टी दफ्तरों और विधानसभाओं में भी मिल जाते है। ऐसे ही एक बाबा जी है आचार्य प्रमोद कृष्णन, बड़बोलेपन के लिए बहुत बड़ी डिग्री लिए है और हर मौके बे मौके बोलने के लिए जाने जाते है। उत्तर प्रदेश चुनाव में कांग्रेस की नैया डुबाने में इनके बयानों का काफी बड़ा हाँथ है। उत्ता बड़ा हाँथ जैसे कानून का होता है।

अबकी बार बाबाजी का हाँथ पहुँच गया है रिया चक्रबर्ती के भाई शौविक चक्रवर्ती के पास तक। मामला यह है कि सीबीआई और ईडी के साथ नारकोटिक्स विभाग सुशांत की संदिग्ध मौत में सुराग तलास रही है इसी बीच एजेंसियों को जानकारी मिली कि इस मामले में सुट्टे, गांजा, चरस, अफीम और हीरोइन का खेल भी है। तो फिर क्या था नारकोटिक्स विभाग पहुँच गया रिया और शौविक के हाल मुकाम पर। मार लैपटॉप, मोबाइल्स और सब चीज़ों की तलासी हुई और उसी दौरान माल मिल गया। माल मतलब गांजा और इसी चक्कर मे शौविक को नारकोटिक्स विभाग ने धर लिया साथ मे रिया भी धर ली गयी।

और इस मामले पर कांग्रेसी बाबाजी को तकलीफ हो गयी, बाबा जी ने अपना धुआं धक्कड़ी वाला ज्ञान दिखाते हुए ट्वीट भी चेप दिया

"कुल 50 ग्राम गाँजा बरामद हुआ है शोविक से, इतने में तो “महात्माओं” की एक "चिलम" भी नहीं भरी जाती"

असली ट्वीट देख लो:

कहने का मतलब अगर गांजा एक चिलम भर ही है या कुछ भी है तो शौविक को गाँजाधिकार के तहत छोड़ देना चाहिए। कल के दिन कोई पचास ग्राम यूरेनियम के साथ न्यूक्लियर बम बनाने लगे तो बाबा जी उन्हें भी छुड़ाने की वकालत करने लगेंगे।

खैर बाबाजी तो बाबाजी ठहरे लेकिन जनता है न जो वो पीछा कर लेती है और ऐसा पीछा करती है कि छोड़ती नही, कुछ ऐसा ही हुआ बाबाजी के साथ, लोगों ने पानी मे डूबा-डूबा कर मारा है।

एक दूसरे बाबाजी के समर्थक ने उन्हें सीधे-सीधे लताड़ दिया, बिना किसी शर्म संकोच के...

विक्रम ने कहा कि बाबाजी काहे कांग्रेस के कपड़े फाड़ने पर तुले हो

सिद्धी नामक ट्विटर उपयोगकर्ता ने कहा कि बाबा काहे को लड़कों से बेइज्जती कराने पर तुले रहते हो

डिस्क्लेमर: देखो भैया ! पहिले बता चुके है बतोले चचा की बातों को न दिल से लेना है न ही दिमाग से पढ़ो। आनंद लो और मस्त हो जाओ, बांकी जो भी ट्वीट वीट है वो हमने नहीं किये है। लोगों के निजी विचार है, उनका वो जाने। अब बाबाजी इस तरह का ट्वीट करेंगे तो जवाब भी वैसे ही पाएंगे। बाबाजी हमसे थोड़ी पूंछ के ट्वीट किए थे।

बतोले चचा का चिलम से दूर-दूर तक कोई रिश्ता नहीं हैं।

उदय बुलेटिन के साथ फेसबुक और ट्विटर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com