यूपी पुलिस से नहीं संभल रही प्रदेश की कानून व्यवस्था, योगी सरकार ने किया नए बल का गठन
yogi adityanath UPSSFGoogle News

यूपी पुलिस से नहीं संभल रही प्रदेश की कानून व्यवस्था, योगी सरकार ने किया नए बल का गठन

योगी सरकार ने बनाई ऐसी फोर्स कि अपराधी अब यूपी छोड़ देंगे, अपराधियों को बिना वारंट गिरफ्तार करने का भी अधिकार, इस बल का नाम है UPSSF।

उत्तर प्रदेश देश का सबसे ज्यादा आबादी वाला प्रदेश है यहां पर जनसंख्या ज्यादा होने की वजह से जरायम की दुनिया भी तेजी से विकसित होती है। इससे निबटने के लिए वर्तमान योगी सरकार को यूपी पुलिस और इसकी कार्यशैली नाकाफी लगी है शायद यही कारण है कि अब प्रदेश में एक नए बल "यूपी एस एस एफ" का गठन किया जाएगा।

त्वरित मदद के लिए होगा हाजिर:

कोरोना काल मे जब सरकार लोगों को कोरोना महामारी से बचाने की कोशिश कर रही थी उसी वक्त उत्तर प्रदेश में एक विशेष बल को बनाने पर भी मंथन चल रहा था और इसी मंथन के बाद 26 जून को इस विशेष बल "उत्तर प्रदेश स्पेशल सिक्योरिटी फोर्स" के गठन की मंजूरी दे दी गयी। इस बल के लिए सबसे पहले तेज तर्रार पुलिस बल पीएससी युवा और सक्षम युवाओं को उठाकर गठन किया जाएगा साथ ही आगे चलकर इस बल में भर्ती करने का अधिकार उत्तर प्रदेश पुलिस प्रोन्नति और भर्ती बोर्ड को ही दिया जाएगा। इस बल में यह छमता होगी कि वह किसी आपात काल मे तुरंत रिस्पांस दे सके। कहने को यह देश मे पहले से उपलब्ध ब्लैक कैट कमांडो की तर्ज पर होगा। हालांकि कार्यकुशलता कितनी रहेगी ये बल के गठन के बाद ही समझ मे आएगा।

बल को मिलेंगे अतरिक्त अधिकार:

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ टीम के द्वारा इस बल को गठित करने में बेहद रुचि दिखाई गई है। साथ ही इस बल को अन्य पुलिस बल और पीएससी अथवा किसी अन्य प्रादेशिक सुरक्षा एजेंसी से ज्यादा अधिकार दिए गए है जैसे बिना वारंट के किसी को भी गिरिफ्तार कर सकता है या तलाशी ले सकता है। जिसमें निवास, वाहन और निजी तलासी शामिल है। साथ ही इस बल को अधिक कानूनी अधिकार दिए गए है जैसे कि इस बल में तैनात अधिकारियों की जांच का अधिकार सीधे अदालतों को भी नहीं रहेगा। किसी भी न्यायिक प्रक्रिया के लिए अदालतों को प्रदेश सरकार से इजाजत लेनी पड़ेगी।

यहाँ रहेगी तैनाती:

इस विशेष बल का मुख्यालय प्रदेश की राजधानी में रहेगा जिसके मुखिया उत्तर प्रदेश पुलिस के एडीजी स्तर के अधिकारी रहेंगे। साथ ही इस बल के जवानों की विशेष ट्रेनिंग कराई जाएगी ताकि मुश्किल स्थिति में यह बल बेहतर काम कर सके। इस बल को प्रदेश में मेट्रो, एयरपोर्ट, औद्योगिक संस्थानों , बैंक, विशेष वित्तीय संस्थानों और न्यायलयों के साथ धार्मिक स्थलों में तैनाती दी जाएगी।

इस बल की यह और खासियत रहेगी कि निजी कंपनियां भी सेवा मूल्य चुका कर इसे अपनी विशेष सुरक्षा के लिए उपयोग में ला सकती है। इस बल के जवानों और अधिकारियों को प्रदेश भर में तैनात किया जाएगा और हर जवान 24 घंटे ड्यूटी में माना जायेगा जब तक वह निजी छुट्टी में नहीं होता।

⚡️ उदय बुलेटिन को गूगल न्यूज़, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें। आपको यह न्यूज़ कैसी लगी कमेंट बॉक्स में अपनी राय दें।

No stories found.
उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com