उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
माकपा के महासचिव सीताराम येचुरी
माकपा के महासचिव सीताराम येचुरी|Google
टॉप न्यूज़

भारत में लोग बदलाव की तरफ देख रहे हैं और जनता यह चाहती है कि अब यह सरकार जाये- येचुरी

येचुरी ने कहा कि यह तेजी से स्पष्ट हो रहा है कि भारत में लोग बदलाव की तरफ देख रहे हैं और जनता यह चाहती है कि अब यह सरकार जाये।

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

नई दिल्ली: सीताराम येचुरी (Sitaram Yechury) माकपा के महासचिव ने प्रधान मंत्री मोदी (Narendra Modi) पर आरोप लगाते हुए कहा है कि लोग प्रधानमंत्री मोदी(Narendra Modi) को दूसरा मौका नहीं देगें। उन्होंने कहा कि इस साल लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Elction 2019) में लोग बदलाव की तरफ देख रहे हैं और यह चाहते हैं कि अब यह सरकार जाये। प्रधान मंत्री मोदी ने देश की अर्थव्यवस्थ को हिला कर रख दिया है। सीताराम येचुरी ने कहा अगला लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Elction 2019) ‘मोदी सरकार बनाम जनता’ के रूप में देखने को मिलेगा।

येचुरी (Sitaram Yechury) ने माकपा के मुखपत्र ‘पीपुल्स डेमोक्रेसी’ में अपने लेख में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के हाल ही में एक साक्षात्कार का हवाला देते हुये कहा ‘‘प्रधानमंत्री का यह बयान स्वाभाविक ही है कि भारत के लोग इस चुनाव की दिशा तय करेंगे। बेशक, हर चुनाव में जनता ही चुनाव की दिशा तय करती है।’’

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री (Narendra Modi) ने लगभग डेढ़ घंटे के साक्षात्कार में रोजगार सृजन के बारे में एक शब्द भी नहीं बोला। जबकि लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Elction 2019) से पहले उन्होंने युवाओं के लिये हर साल रोजगार के दो करोड़ अवसर मुहैया कराने का वादा किया था। इस हिसाब से अब तक रोजगार के अवसरों में दस करोड़ का इजाफा हो जाना चाहिये था।

येचुरी (Sitaram Yechury) ने रोजगार बढ़ने के बजाय नौकरियां घटने संबंधी एक अध्ययन रिपोर्ट का जिक्र करते हुये कहा कि 2018 में 1.1 करोड़ लोग रोजगार से हाथ धो बैठे। इस स्थिति से ग्रामीण क्षेत्र के लोग सर्वाधिक प्रभावित हुये।

अध्ययन रिपोर्ट के हवाले से शनिवार को प्रकाशित एक मीडिया रिपोर्ट का जिक्र करते हुये येचुरी ने ट्वीट भी किया ‘‘2018 में 1.1 करोड़ लोगों का रोजगार छिना, मोदी सरकार में लोगों का कष्ट और अधिक बढ़ गया है। रोजगार (Employemt) का अभाव, युवाओं और भारत के भविष्य को नष्ट कर रहा है। जबकि वादा था दस करोड़ नयी नौकरियां देने का।’’

उन्होंने प्रधानमंत्री (Narendra Modi) द्वारा किसानों की कर्जमाफी (Farmer loan waiver) को ‘लॉलीपॉप’ करार देने को अमानवीय बताते हुये कहा कि संकटग्रस्त किसानों की आत्महत्या (Farmer Suicide) को रोकने के लिये एक बार कर्ज माफी (loan waiver) ही ‘अन्नदाता’ को समस्या से उबारने का एकमात्र दूरगामी उपाय है।

येचुरी ने नोटबंदी(Demonetization), जीएसटी (GST), धार्मिक असहिष्णुता (Religious intolerance), राफेल (Rafale Deal)और तीन तलाक (Triple Talaq) मामले में सरकार के बचाव में प्रधानमंत्री मोदी की दलीलों को नकारते हुये कहा कि पांच साल से भी कम समय में जनता सरकार के वादों और दावों की सच्चाई समझ गयी है। अगला चुनाव ‘मोदी सरकार बनाम जनता’ के रूप में देखने को मिलेगा।