Journalist Piyush Mishra Republic TV 
Journalist Piyush Mishra Republic TV |Twitter 
टॉप न्यूज़

JNU : प्रदर्शनकारियों ने पत्रकार को गालियों से नवाजा, पत्रकार ने एडिटर्स गिल्डस से निंदा की अपेक्षा की

क्या एडिटर्स गिल्ड पत्रकार पियूष मिश्रा के साथ हुई अभद्रदता की निंदा करेगा।

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

जेएनयू का विवाद जिस दिन से शुरू हुआ है मजाल क्या कि कोई दिन बिना किसी खबर के जेएनयू रह पाए चाहे वह छात्र नजीब के गायब होने का मामला हो यह फिर कन्हैया कुमार का, ताजा विवाद यह है कि कुछ नकाबपोशों ने जेएनयू के अंदर घुसकर मारपीट की है, इस घटना में एक ओर लेफ्ट दल और कांग्रेस दल के छात्र संगठन भाजपा के छात्र संगठन एबीवीपी पर आरोप लगा रहे है तो दूसरी तरफ एबीवीपी अपने विपक्षी छात्र नेताओं पर आरोप लगा रहे है, सनद रहे इस मामले में वर्तमान छात्र संघ अध्यक्ष आइशी घोष घायल हुई है।

कवर करने गए पत्रकार साथ हुई बदसुलूकी :

जिस समय जेएनयू में घुसकर पीटने के विरोध में नारेबाजी हो रही थी उस वक्त रिपब्लिक भारत के पत्रकार पीयूष मिश्रा इस आंदोलन को कवर करने गए थे और उन्होंने सेटअप के साथ मामले को कवर करना भी शुरू कर दिया था तभी एक दाढ़ी वाला प्रदर्शनकारी आकर कहता है "तेरा हो गया, चल अब निकल, और प्रदर्शनकारी यहीं तक नही रुकता बल्कि वह पत्रकार को ताकत के साथ खींचकर आगे ले जाता है और साथ मे "माँ" की गाली देता है, और साथ में पत्रकार को दलाल कहते हुए आगे की ओर धकेल देता है, यहाँ गौर करने वाली बात यह है कि मौके पर पुलिसकर्मी अच्छी खासी मात्रा में उपस्थित थे लेकिन किसी व्यक्ति के द्वारा इस घटना का विरोध नही किया जाता, पत्रकार ने इसे अपने ट्विटर हैंडल से ट्वीट करके एडिटर्स गिल्डस इंडिया से इस मामले की निंदा करने की मांग रखी है।

हमले में घायल आइशी घोष खुद नकाबपोश कर साथ खड़ी दिखाई देती है :

वैसे तो जेएनयू छात्र संघ अध्यक्ष अपने ऊपर हमले को लेकर तमाम प्रकार के तथ्य लेकर बैठी हुई है लेकिन कुछ सवाल ऐसे है जिनका जवाब किसी के पास नही है। खुद रिपब्लिक भारत के पत्रकार पीयूष मिश्रा ने ट्विटर पर घोष को नकाबपोश के साथ खड़े रहने की मोबाइल कैमरा फुटेज ट्वीट की है। इस मामले पर आइशी घोष ने अभी तक कोई प्रतिक्रिया नही दी है।

उदय बुलेटिन के साथ फेसबुक और ट्विटर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com