उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
 Protest Against CAB Bill in Bengal
Protest Against CAB Bill in Bengal|Social Media
टॉप न्यूज़

ममता के राज में सुलग रहा बंगाल, दीदी के तेवर दंगे को दे रहे शह !

राजनितिक हित के लिए ममता को जनता से नहीं ममता।

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

Summary

सिटीजन अमेंडमेंट बिल को राष्ट्रपति की मंजूरी मिले हुए अभी कुछ दिन ही हुए है लेकिन इस मामले को लेकर बंगाल में दहशत कायम है, यहाँ सरकारी संस्थाओं को आग के हवाले किया जा रहा है और हजारो हजार लोगों की जान खतरे में डाली जा रही है।

ममता दंगाइयों के साथ ?

एक ओर जहां देश का ग्रह मंत्रालय देश मे होने वाली संभावित घटनाओं को रोकने के लिए प्रयासरत है वहीँ पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने खुद मीडिया के सामने आकर सरकार के इस बिल का तगड़ा विरोध कर दिया है, जिसकी वजह से स्थानीय दंगाइयों के मनोबल बढ़ाने की स्थिति सी उत्पन्न हुई है।

विरोध जायज हो सकता है लेकिन इस कदर ?

चलती हुई ट्रेनों को आग के हवाले कर देना और यात्रियों से भरी हुई ट्रेन में पथराव करना, इस तरह के विरोध को लेकर देशभर में इस प्रकार के कृत्यों की निंदा की जा रही है।इसी विरोध की आड़ में दंगाई आम नागरिकों और यात्रियों से बदसुलूकी करने से नही चूक रहे है, लोगो के सिर दंगाइयों के फेंके गए पत्थरो से फूट रहे है जबकि बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के द्वारा इस मामले पर कुछ भी नही बोला गया है।

Protest Against CAB Bill in Bengal
Protest Against CAB Bill in Bengal
Social Media

विपक्ष की शह पर जलाई जा रही सरकारी संपत्ति : भाजपा

भाजपा ने बिल के पारित होने बाद होने वाली घटनाओं के लिए ममता बनर्जी और कांग्रेस को जिम्मेदार ठहराया है, खुद अमित शाह भी इस मामले पर बोलने से नही चुके

अमित शाह यहीं नही रुके उन्होंने कांग्रेस और अन्य विपक्षी दलों की मंशा पर सवाल खड़े कर दिए।

हिंसा फैलाने वालों को सिर्फ चेतावनी क्यों दे रही ममता?

नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA) और एनआरसी (NRC) के खिलाफ हो रहे विरोध प्रदर्शनों के दौरान व्यापक हिंसा के मद्देनजर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने शनिवार को लोगों से विरोध जताने के लिए लोकतांत्रिक तरीकों का उपयोग करने की अपील की। साथ ही चेतावनी दी कि कानून को हाथ में लेने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। ममता ने एक बयान जारी कर कहा, "लोकतांत्रिक तरीकों से आंदोलन करें, लेकिन कानून को अपने हाथ में न लें। सड़कों या ट्रेन की नाकेबंदी न करें।"

मुख्यमंत्री ममता ने कहा कि परेशानी पैदा करने वालों में से किसी को भी नहीं बख्शा जाएगा।

उन्होंने कहा, "अगर आम लोगों को तकलीफ होती है तो हम बर्दाश्त नहीं करेंगे। जो लोग गड़बड़ी पैदा कर रहे हैं और कानून को अपने हाथ में ले रहे हैं, उनमें से किसी को भी नहीं बख्शा जाएगा।"

उन्होंने कहा, "हम बसों को आग लगाने वाले, गाड़ियों को पत्थर मारने और सरकारी संपत्ति को नष्ट करने वालों के खिलाफ कानून के मुताबिक कदम उठाएंगे।"

मुख्यमंत्री की अपील सीएए के खिलाफ हिंसक विरोध प्रदर्शनों के बाद आई है। बंगाल में शनिवार को प्रदर्शनकारियों की भीड़ ने बसों में आग लगा दी, रेलवे संपत्तियों को नष्ट कर दिया और सड़क व रेलमार्ग बाधित बाधित कर दिया। राज्य में तनाव शुक्रवार को शुरू हुआ था।