उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
Akhilesh Yadav and Shivpal Yadav
Akhilesh Yadav and Shivpal Yadav|Uday Bulletin
टॉप न्यूज़

मैं अखिलेश यादव से बिना किसी शर्त मिलने को तैयार हूँ, अखिलेश यादव को दुबारा मुख्यमंत्री देखना चाहता हूँ।

अखिलेश को फिर से मुख्यमंत्री के रूप में देखने की चाहत : शिवपाल

Ashutosh

Ashutosh

समाजवादी पार्टी से अलग होकर प्रगतिशील समाजवादी पार्टी का गठन कर चुके शिवपाल यादव ने एक बार फिर यादव कुनबे में एकता का राग अलापा है। उन्होंने कहा है कि वह एक बार फिर से अखिलेश को मुख्यमंत्री के रूप में देखना चाहते हैं। इटावा के सिंचाई भवन में अपनी पार्टी की बैठक के दौरान उन्होंने मीडिया से कहा कि वह "गठबंधन के मामले में सिर्फ समाजवादी पार्टी को वरीयता देंगे। मैं अखिलेश यादव को एक बार फिर से उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री बनते देखना चाहता हूं।"

शिवपाल यादव ने कहा कि अखिलेश मान जाएंगे तो 2022 में प्रदेश में सरकार भी बना लेंगे। उनका कहना है कि सैफई में नेताजी के जन्मदिन को परिवार को एकजुट होकर मनाना चाहिए। 

प्रगतिशील समाजवादी पार्टी प्रदेशभर में 22 नवंबर को मुलायम सिंह यादव का जन्मदिन मनाने जा रही है। इस मौके पर शिवपाल ने परिवार के सभी लोगों को आमंत्रित किया है।

शिवपाल ने कहा, "मैं और मेरी पार्टी बिना शर्त अखिलेश यादव से मिलने को तैयार है। मेरी इच्छा है कि एक बार फिर से अखिलेश यादव मुख्यमंत्री बनें। हम इसके लिए समाजवादी पार्टी से बिना शर्त गठबंधन के लिए तैयार हैं। विधानसभा चुनाव 2022 में भले ही कुछ भी हो, अखिलेश ही मुख्यमंत्री बनेंगे।"

प्रसपा नेता ने कहा कि वह मुख्यमंत्री नहीं बनना चाहते। उनकी प्राथमिकता समाजवादी पार्टी है। "मैंने बहुत लंबे समय तक नेताजी के साथ काम किया है। हमारी विचारधारा भी समाजवादी है।"

शिवपाल ने कहा, "मैं समाजवादी पार्टी से गठबंधन को तैयार हूं। अब अखिलेश को भी मान जाना चाहिए, क्योंकि कुछ भी हो मुख्यमंत्री तो अखिलेश ही बनेंगे। मेरी तो कभी भी मुख्यमंत्री बनने की इच्छा नहीं थी। मैं कई बार कह चुका हूं कि मुझे मुख्यमंत्री नहीं बनना है।"

ज्ञात हो कि इससे पहले भी शिवपाल यादव कई बार अखिलेश यादव और समाजवादी पार्टी को लेकर बयान दे चुके हैं। कुछ दिन पहले शिवपाल ने कहा था कि प्रगतिशील समाजवादी पार्टी का सपा में विलय नहीं होगा, और जनता उनकी पार्टी को भाजपा का विकल्प मानने लगी है। उन्होंने कहा था कि सपा से गठबंधन का विकल्प जरूर खुला है।

शिवपाल ने कहा था कि सांप्रदायिक शक्तियों को हराने के लिए सपा से गठबंधन हो सकता है। फिर उनका बयान आया कि उनकी बार-बार सपा में जाने की अफवाहें फैलाई जा रही हैं, सपा में जाने का कोई सवाल ही नहीं है। उन्होंने यह भी कहा था कि वह अभी सपा के विधायक हैं, लेकिन उन्हें सपा मुखिया ने विधायकों की किसी बैठक में नहीं बुलाया है।