उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
विजय माल्या 
विजय माल्या |google
टॉप न्यूज़

बैंको का पैसा चुकाना चाहता हैं भगोड़ा विजय माल्या, कहा 100% कर्ज चुकाना चाहता हूं, Please ले लो  

शराब कारोबारी और भारत के बैंकों से कर्ज ले कर विदेश भाग चुका विजय माल्या अब ट्विटर पर भारत वापस आने की भीख मांग रहा है। 

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

नई दिल्ली: किंगफिशर कंपनी के मालिक, शराब कारोबारी, उद्योगपति विजय माल्या भारतीय बैंको से 9000 हज़ार करोड़ रूपये कर्ज ले कर भागने के बाद अब देश वापस आना चाहता है और अपना पूरा कर्जा चुकता करना चाहता है। दरअसल आज सुबह विजय माल्या ने ट्विटर पर कहा कि वह भारतीय बैंकों का 100 फीसदी कर्ज चुकता करने को तैयार है। लेकिन वो ब्याज नहीं दे सकते हैं।

शराब कारोबारी माल्या ने के साथ तीन ट्वीट किये और उन्होंने बैंकों के सभी पैसे वापस करने की बात कही, साथ ही उन्होंने कहा कि उनके साथ भारतीय मीडिया हाउस ,पब्लिकेशन और राजनेता पक्षपात कर रहे हैं।

विजय माल्या ने अपने पहले ट्विट में लिखा कि "तीन दशकों तक भारत के सबसे बड़े शराब वाले समूह को चलाने के लिए, हमने राज्य के यात्रियों को हजारों करोड़ का योगदान दिया। किंगफिशर एयरलाइंस ने भी राज्यों को सौहार्दपूर्ण योगदान दिया। बेहतरीन एयरलाइन का दुखद नुकसान, लेकिन फिर भी मैं बैंकों को भुगतान करने की पेशकश करता हूं इसलिए कोई नुकसान नहीं। कृपया इस ऑफर को ले लें।"

विजय माल्या ने अपने दूसरे ट्विट में लिखा कि "एयरलाइंस आर्थिक रूप से उच्च एटीएफ कीमतों के आंशिक रूप से संघर्ष कर रही है। किंगफिशर एक फैब एयरलाइन थी जिसने 140 डॉलर प्रति बैरल की सबसे ज्यादा कच्ची कीमतों का सामना किया। घाटे बढ़ गए और यही वह जगह है जहां बैंक के पैसे गए थे। मैंने उन्हें प्रिंसिपल राशि का 100% चुकाने की पेशकश की है। कृपया मेरे ऑफर को ले लें।

राजनीतिज्ञ और मीडिया लगातार मुझपर आरोप लगा रही है , मुझे PSU बैंकों का पैसा उड़ा कर भागने वाला भगोड़ा घोषित कर दिया गया है। ये सभी आरोप जूठे हैं। मेरे साथ पक्षपात हुआ है। मैंने कर्नाटक उच्च न्यायालय के समक्ष व्यापक निपटारे का प्रस्ताव दिया था। लेकिन सबने अनसुना कर दिया। जो बेहद दुखपूर्ण था।

आपको बता दें कि, शराब कारोबारी विजय माल्या ने कई बैंकों से 9000 करोड़ रूपये का कर्ज लिया था , जिसे न चुकाने के बाद उसे डिफॉल्टर घोषित किया गया था। जिसके बाद वह भारत से फरार है। वह मार्च 2016 से ब्रिटेन में हैं और 18 अप्रैल को प्रत्यर्पण वारंट पर स्कॉटलैंड यार्ड ने गिरफ्तार किया था ,सीबीआई (CBI) इस मामले में जांच कर रही है।