दिल्ली में सब कुछ ठीक-ठाक नहीं है, चिकित्सा और शिक्षा पर अपनी पीठ थपथपाने वाली सरकार कहाँ सोई है?

किसी बीमार आदमी के लिए सबसे बड़ी राहत होती है सुलभ चिकित्सा, पिछले लंबे वक्त से आम आदमी पार्टी की सरकार अपने काम को लेकर इतराते हुए नहीं थकती थी लेकिन बीजेपी ने आप और अरविंद केजरीवाल को आइना दिखाया है
दिल्ली में सब कुछ ठीक-ठाक नहीं है, चिकित्सा और शिक्षा पर अपनी पीठ थपथपाने वाली सरकार कहाँ सोई है?
patient found lying on the floor in delhiTwitter Video Screengrab

बीजेपी दिल्ली ने आम आदमी पार्टी को बुरी तरह घेर लिया है:

क्या है माजरा?

अगर आप पिछले कुछ सालों में दिल्ली गए है तो आपको दर्शनीय स्थलों के अलावा एक चीज और देखने को मिलेगी, आम आदमी पार्टी के विज्ञापन, जिसमे सीसीटीवी लगवाने, बसों में मार्शल तैनाती, विश्व स्तरीय शिक्षा और विश्व स्तरीय चिकित्सा सुविधा, जिनमे मोहल्ला क्लिनिक जैसे दावे और वादे नजर आएंगे। लेकिन दिल्ली बीजेपी ने एक वीडियो वायरल किया है जिसको लेकर बवाल खड़ा हो गया है। मामले पर सरकार की फजीहत होते देखकर खुद मुख्यमंत्री को सफाई पेश करने आना पड़ा और ट्विटर पर साफ शब्दों में लिखा कि "मैं इसको अभी ठीक कराता हूँ, हमारी कमियां बताने के लिए शुक्रिया। इस भीषण त्रासदी में हम सभी को मिलकर सेवा करनी है, जहाँ कही दिल्ली में हमारी व्यवस्था में कमी नजर आए, तो हमें जरूर बताएं ताकि हम उसे ठीक कर सकें"

हालांकि इसके बाद अरविंद केजरीवाल कितनी भी सफाई दें लोगों तक असल सच्चाई पहुँच चुकी है। लोगों द्वारा केजरीवाल के बयान को लेकर तमाम प्रकार के आरोप लगाए जा रहे है। कुछ लोगों ने दिल्ली सरकार की 10 लाख लोगों को रोज खाना खिलाने वाली रसोई को लेकर सवाल खड़े कर दिए है।

दिल्ली भाजपा द्वारा शेयर किए गए वीडियो में एक शख्स स्ट्रेचर पर और दूसरा जमीन पर लेटा हुआ दिखाई दे रहा है। डाक्टर से इस बारे में पूंछने पर ठगा सा जवाब मिलता है कि क्या हमारी जान नही है बीमारों के परिजनों के अनुसार पूरी दिल्ली में कोरोना संक्रमितों और संदिग्धों के हालत बेहद खराब हैं। बीमारों के साथ जानवरों वाला सुलूक किया जा रहा है।

इससे पहले तमाम विपक्षी दलों और मीडिया हाउस के द्वारा लगातार उत्तर प्रदेश और गुजरात के कोरोना हालातों को लेकर चर्चा की जा रही थी। लेकिन अब दिल्ली के हालात सामने आए है जो सबसे ज्यादा डराने वाले है। जहाँ एक व्यक्ति जमीन पर मरने के लिए पड़ा है और दूसरा अस्पताल में एडमिट होने के लिए प्रतीक्षा कर रहा है जबकि स्वास्थ्यकर्मियों के द्वारा ठगा सा जवाब दिया जा रहा है।

वहीँ दिल्ली के कुछ अस्पतालों के द्वारा दिल्ली सरकार की तरफ से की जाने वाली लापरवाही का भी आरोप शुरू हुआ था जिसके तहत स्वास्थ्यकर्मियों ने आरोप लगाए थे कि उन्हें एक बार उपयोग की गई पीपीई किट पहनने के लिए मजबूर किया जा रहा है।

⚡️ उदय बुलेटिन को गूगल न्यूज़, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें। आपको यह न्यूज़ कैसी लगी कमेंट बॉक्स में अपनी राय दें।

No stories found.
उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com