Gorakhpur Violence Accused Pictures
Gorakhpur Violence Accused Pictures|Social Media
टॉप न्यूज़

गोरखपुर में दंगाइयों की शामत, पुलिस ने जारी किए सीसीटीवी फोटोज, जनता से पहचान उजागर करने की अपील ! 

योगी के एक्शन से दंगाइयों में खौफ, अब ऐसा करने से पहले 100 बार सोचेंगे ।

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

Summary

20 दिसंबर की तारीख उत्तर प्रदेश के कुछ अन्य जिलों की तरह गोरखपुर में भी विरोध प्रदर्शन हुए लेकिन जैसे ही जुमे की नमाज के बाद शाम होनी शुरू हुई, उसके बाद प्रदर्शन दंगो में बदल गया। दंगाइयों ने पुलिस के खिलाफ ईंट पत्थर के साथ असलहों से फायरिंग की, जिसकी वजह से कई पुलिसकर्मी गंभीर रूप से घायल हुए।

गोरखपुर में हुए दंगो के बाद उत्तर प्रदेश पुलिस ने अब अपना ध्यान दंगाइयों पर केंद्रित किया है जिसकी वजह से गोरखपुर में खासी हलचल सी मची हुई है। तमाम लोगों ने अपने बच्चों को घरों से गायब करना शुरू कर दिया है।

“ उत्तर प्रदेश सरकार के अनुसार मुस्लिम पक्ष ने ढील का नाजायज फायदा उठाया “ 

तस्वीरों के लगाए पोस्टर :

गोरखपुर पुलिस ने दंगे में शामिल दंगाइयों की सीसीटीवी से प्राप्त तस्वीरों के कोलाज बनाकर चौराहों पर पोस्टरनुमा तरीके से टांग दिया है और लोगों से अपील की है कि गोरखपुर शहर को जलाने की कोशिश करने वाले दंगाइयों की पहचान करने में मदद करे, गोरखपुर पुलिस ने अपनी सूचना में लोगो से अपील की है कि वो दंगाइयों की पहचान करके पुलिस को सूचित करें और उनकी सूचना को बेहद गोपनीय रखा जाएगा। कहने का तात्पर्य सूचना देने वालो की पहचान जाहिर नहीं की जाएगी, गोरखपुर पुलिस ने एसपी सदर का मोबाइल नंबर 9454401054 और एसएचओ कोतवाली 9454403517, सीओ सिटी 9454401411 जैसे मोबाइल नंबर सार्वजनिक किए है।

Gorakhpur Violence Accused Pictures
Gorakhpur Violence Accused Pictures
Gorakhpur Violence Accused Pictures
Gorakhpur Violence Accused Pictures
Gorakhpur Violence Accused Pictures
Gorakhpur Violence Accused Pictures
Gorakhpur Violence Accused Pictures

योगी के है सख्त निर्देश :

वर्तमान योगी सरकार प्रदर्शन की आड़ में दंगा और आगजनी करने वालों को माफ करने के मूड में कतई नही है , सरकार ने ला एंड आर्डर और राजस्व अधिकारियों को सीधे शब्दों में चेतावनी जारी की है कि दंगाइयों और आगजनी करने वालो की पहचान करा के उनके द्वारा किये गए नुकसान की भरपाई कराई जाए, जरूरत पड़ने पर घर, प्रतिष्ठान की नीलामी करके सार्वजनिक संपत्ति का मूल्य वसूला जाए, इस आदेश को सुनकर पूरे क्षेत्र में एक अलग सा माहौल तैयार हो गया है, इस कारण से पहचान में आने के डर से लोग अपने बच्चों को बाहर शिफ्ट करने का मन बना चुके है।

उदय बुलेटिन के साथ फेसबुक और ट्विटर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com