उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
Unnao Case
Unnao Case|Uday Bulletin
टॉप न्यूज़

रेप हुआ साल भर दर-दर की ठोकरे खाई , फिर रेपिस्टों ने जलाया, और अब मौत भी हो गयी

पीड़िता की मौत से दुखी पिता ने हैदराबाद एनकाउंटर की तरह दरिदों को सजा मिलने की मांग की है

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

Summary

हैदराबाद में वेटनरी डॉक्टर बलात्कार घटना के बाद अब उत्तर प्रदेश का उन्नाव दहक रहा है, बलात्कार के करीब एक साल बाद पीड़िता को नेस्तोनाबूद करने का प्रयास बखूबी पूरा किया गया, बीती रात करीब पौने बारह बजे पीड़िता ने अंतिम सांस ली।

भले ही हैदराबाद की वेटनरी डॉक्टर की घटना के आरोपियों को पुलिस ने अपनी गोली से खामोस कर दिया हो, लेकिन उन्नाव के हालात बेहद अलग है यहाँ तेईस वर्षीय लड़की के साथ बलात्कार जैसा जघन्य कृत्य करीब एक साल पहले हुआ था इसके बाद से ही पीड़िता को आये दिन धमकियों का सामना करना पड़ रहा था इस बाबत पीड़िता ने कोर्ट में कई बार आरोपियों की जमानत नामंजूर करने के लिए फरियाद भी लगाई थी लेकिन दलीलों और न्याय व्यवस्था के लचर होने का फायदा हैवानों ने उठाया और पेशी पर जाती हुई पीड़िता को सरे राह पेट्रोल डाल कर जला दिया और मौके से फरार हो गए।

करीब 90% तक जली हुई पीड़िता ने सबसे पहले दूसरे राहगीरों की मदद से 100 नम्बर डायल करके पुलिस से मदद मांगी और फिर लगभग एक किलोमीटर लगातार चलती रही।

उत्तर प्रदेश सरकार ने मौके की नजाकत को देखते हुए एयर एम्बुलेंस की मदद से दिल्ली के सफदरजंग हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया।

हालाँकि अस्पताल द्वारा यह जानकारी पहले ही उपलब्ध कराई गई थी कि पीड़िता के लिए अगले 48 घंटे बेहद नाजुक होंगे और कुछ ऐसा हुआ भी

रात्रि करीब 11:40 पर आग की जलन से चीखती-चिल्लाती एक और निर्भया मौत के आगोश में समा गई।

ज्यूडिशियरी फेल ही हो गयी: आखिर रेप के आरोपी जेल से कैसे आये ? जमानत पर !

जमानत किसने दी ?

अदालत ने !

मौत का जिम्मेदार कौन ?

पता नहीं लेकिन मौत तो हुई है, किसी के मत्थे मढ़ा जा सकता है, यही कारण है कि लोग दूसरे विकल्प तलाशने लगते है।

पीड़िता के पिता ने कहा हैदराबाद एनकाउंटर की तरह दरिंदों को सजा मिले:

पीड़िता के पिता ने कहा कि मुझे किसी धन की लालच नहीं है। मेरी सिर्फ एक ही मांग है कि मेरी बेटी को मौत के बाद इंसाफ मिले। उन्होंने सरकार से एनकाउंटर या तो फांसी की सजा की मांग की। पीड़िता के पिता ने बताया कि आज सफदरजंग अस्पताल में बेटी का पोस्टमार्टम होगा। उसके बाद परिजन उसका शव लेकर उन्नाव लाएंगे।

ज्ञात हो कि शुक्रवार रात 11.40 पर पीड़िता का सफदरजंग अस्पताल में निधन हो गया। इसकी जानकारी पीड़िता की बहन ने दी। अस्पताल के बर्न और प्लास्टिक सर्जरी विभाग के एचओडी डॉ. शलभ कुमार ने पीड़िता के निधन की पुष्टि करते हुए कहा कि रात करीब 11.10 पर पीड़िता के हृदय ने काम करना बंद कर दिया। डॉक्टरों की तमाम कोशिशों के बावजूद उसकी हालत में कोई सुधार नहीं हुआ और रात 11.40 पर उसका निधन हो गया।

हालांकि 90 प्रतिशत से भी ज्यादा जल चुकी उप्र की इस पीड़िता ने आखिरी वक्त तक भी हार नहीं मानी थी। गुरुवार रात 9 बजे तक वह होश में थी। जब तक होश में थी कहती रही- मुझे जलाने वालों को छोड़ना मत। फिर नींद में चली गई, डक्टरों ने पूरी कोशिश की, वेंटिलेटर पर रखा लेकिन वो नींद से नहीं उठी।

गौरतलब है कि उन्नाव जिले के बिहार थाना क्षेत्र में दुष्कर्म पीड़िता को गुरुवार को ज्वलंत पदार्थ से जलाने का प्रयास किया गया। रायबरेली जाने को सुबह रेलवे स्टेशन जा रही दुष्कर्म पीड़िता युवती को कुछ लोगों ने आग लगा दी और भाग निकले। इसके बाद पास की एक गैस एजेंसी की गोदाम के गार्डो की सूचना पर पहुंची पीआरवी ने उसे सुमेरपुर सीएचसी पहुंचाया जहां से जिला अस्पताल लाया गया। हालत बेहद नाजुक होने के कारण उसको लखनऊ के सिविल हास्पिटल रेफर कर दिया गया। युवती करीब 90 प्रतिशत जल गई थी और उसकी हालत काफी गंभीर थी। उन्नाव में आग के हवाले की गई दुष्कर्म पीड़िता को दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल शिफ्ट किया गया। पीड़िता को एयर एंबुलेंस से दिल्ली ले जाया जा गया। जहां उसने अंतिम सांस ली। इस मामले में पुलिस ने पांच आरोपियों को गिरफ्तार किया है।