उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और कैबिनेट मंत्रियों की बैठक 
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और कैबिनेट मंत्रियों की बैठक |Image source: Shivraj SIngh Chouhan Official
टॉप न्यूज़

कैबिनेट की मंजूरी के साथ मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने उठाया एक कदम महिलाओं के हित में!  

50 वर्ष की अविवाहित महिलाओं को मिलेगा पेंशन   

Sneha Sinha

Sneha Sinha

भोपाल: महिलाओं के हित को ध्यान में रखते हुए मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने एक कदम उठाया है, जिससे की इस राज्य में रहने वाली अविवाहित महिलाओं के उपार्जन में सहायता हो पाये। इस योजना के तहत इस राज्य में रहने वाली हर अविवाहित महिला जिसकी उम्र 50 वर्ष या उससे अधिक हो, उन सभी को पेंशन मिलेगी।

इस योजना को उम्र के आधार पर दो भागों में बाँटा गया है:

  • 50 से 79 वर्ष की महिलाओं को 300 रूपये हर महीने पेंशन दी जायेगी
  • 80 वर्ष या उससे अधिक उम्र की महिलाओं को 500 रूपये हर महीने पेंशन दी जायेगी

अभी तक महिलाओं की पेंशन की बहुत सारी योजनाएँ लागू की गयी थी, लेकिन अविवाहित महिलाओं के पक्ष में एक भी योजना कार्यरत नहीं हुई, इसलिए अब अविवाहित महिलाओं की आवश्यकताओं को मद्देनज़र रखते हुए उनकी भी सहायता करने का फैसला किया गया है, जिसे हम सरकार द्वारा निर्मित एक अहम् फैसला मान सकते है। मीडिया को सम्बोधित करते हुए जल संसाधन और राज्य सरकार के प्रवक्ता नरोत्तम मिश्रा ने कहा है की," आज कैबिनेट ने मुख्यमंत्री अविवाहिता पेंशन योजना को मंजूरी दे दी है और हर एक वर्गीकरण को सामाजिक सुरक्षा देने के लिए यह पेंशन योजना लायी गयी है।" 2012 की जनगणना के अनुसार मध्य प्रदेश में लगभग 76,000 महिलाएँ अविवाहित है, आंकड़ों में वैसी महिलाएँ सम्मिलित है, जिन्होंने किसी सामाजिक कार्यों में रूचि लेने के कारण शादी का त्याग किया या घर की परिस्थितियों की मार ने इनकी शादी नहीं होने दी, और ऐसी महिलाओं के नैतिक मूल्यों को प्रदान करना हर एक सरकार का प्रथम कर्तव्य है। यह पेंशन ऐसी महिलाओं को मिलेगा जिनसे सरकार आयकर प्राप्त नहीं करती हो तथा महिलाएँ मध्य प्रदेश की मूल निवासी हों।

योजना के पीछे की बहस:

विपक्षी दल का मानना है की शिवराज सरकार द्वारा दी गई यह योजना अन्य मुद्दो से जनता का ध्यान भटकाने के लिए उठाया गया है , वहीं बीजेपी अपने स्लोगन ,"सबका साथ, सबका विकास" के आधार पर कह रही है की,"हम समाज की सभी श्रेणियों को ध्यान में रखते हुए योजनाओं का निर्माण करते हैं, जिससे उनके कष्टों का निवारण हो सके"