लॉकडाउन
लॉकडाउन|udaybulletin
टॉप न्यूज़

ये हैं वो 24 जिले, जिन्हें लॉकडाउन के बीच मिल सकती है कुछ मामलों में छूट

सभी को लॉकडाउन खुलने का बेसब्री से इन्तजार है मगर छूट केवल उन्ही स्थानों पर मिल सकती है जहाँ लॉकडाउन का सख्ती से पालन हो रहा है और जहाँ कोई कोरोना संदिग्ध नहीं पाया गया हो

Puja Kumari

Puja Kumari

कोरोना का कहर कम होने का नाम ही नहीं ले रहा, सबसे पहले चीन और फिर इटली और स्पेन में अपना प्रचंड रूप दिखने के बाद कोरोना संक्रमण का सबसे बड़ा शिकार दुनिया का सबसे शक्तिशाली देश अमेरिका बना जहाँ अब तक 23 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। हालाँकि भारत ने अपनी सूझबूझ और बेहद समझदारी दिखाते हुए वक़्त पर जरूरी फैसले ले कर अपने देशवासियों को इस विश्वव्यापी महामारी से बचाया है, अन्यथा हमारे देश की तस्वीर कुछ और ही होती।

24 मार्च को लॉकडाउन जैसे बड़े फैसले की वजह से ही इतनी बड़ी आबादी वाले देश में इसके कोई अत्यंत गंभीर परिणाम देखने को नहीं मिले हैं। इसी बीच प्रधानमंत्री ने कुछ ही दिनों के अंतराल में चौथी बार देश को संबोधित करते हुए लॉकडाउन की अवधि को अगले 19 दिन यानी 3 मई तक के लिए बढ़ा दिया है।

लॉकडाउन
लॉकडाउन Google

अगले 6 दिनों तक होगी लॉकडाउन की अग्निपरीक्षा

यक़ीनन इससे बहुत सारे लोगों को काफी निराशा भी हुई होगी मगर प्रधानमंत्री के इस फैसले का देश के बड़े वर्ग ने समर्थन भी किया। ऐसा इसलिए क्योंकि वो सभी कोरोना संक्रमण की गंभीरता को समझ रहे हैं।

खैर प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में कुछ महत्त्वपूर्ण बातें भी कही थीं। उन्होंने लॉकडाउन की अवधि को बढ़ाते हुए यह भी कहा की अगले 6 दिनों तक लॉकडाउन का बेहद सख्ती से पालन किया जायेगा और इस दौरान जिस भी क्षेत्रों में कोरोना का कोई भी केस सामने नहीं आता है तो वहां पर कुछ गतिविधियों के लिए छुट मिल सकती है।

यानी इसका सीधा सा मतलब ये है की सरकार तो और भी सजग हो ही रही साथ ही साथ नागरिकों को भी इसके प्रति और ज्यादा सावधान और सतर्क होना होगा, तभी उन्हें भी कुछ राहत मिलेगी और कोरोना जैसे जानलेवा संक्रामक वायरस से जल्द छुटकारा भी मिल सकता है।

वो 24 जिले जहाँ पिछले 2 सप्ताह से नहींं मिला एक भी कोरोना पॉजिटिव

महाराष्ट्र का गोंदिया, छत्तीसगढ़ का राजनांदगाँव, ग्रुग और बिलासपुर, कर्णाटक के देवनागरी, कोडागु, टुमकुरु, उडुपी, गोवा का दक्ष्णि गोवा, केरल के वायनाड और कोट्टयम, मणिपुर का पश्चमी इम्फाल, जम्मू-कश्मीर का राजौरी, मिजोरम का आइजोल पश्चिम, पंजाब का एसबीएस नगर, बिहार का पटना, मुंगेर, राजस्थान का प्रतापगढ़, हरियाणा का पानीपत, रोहतक, सिरसा, उत्तराखंड का पौड़ी गढ़वाल, तेलंगाना का भाद्रदरी कोठागुदेम तथा पुदुचेरी का माहे।

ये सभी जिले देश के अलग अलग राज्यों के हैं जहाँ पर पिछले 14 दिनों में एक भी कोरोना संक्रमित नहीं पाया गया है। ऐसे में यह अनुमान लगाया जा सकता है की 20 अप्रैल तक अगर इन जगहों की स्थिति इसी तरह बनी रही तो संभव है कि यहाँ की सरकारें इन इलाकों में कुछ चीजों के लिए छूट दे सकती है।

लॉकडाउन
लॉकडाउन Google

जिन इलाकों को रेड जोन घोषित किया गया है वहां पर पुलिस की बेहद सख्ती से तैनाती है, गाँव-गाँव में कोरोना संदिग्धों की तलाश कर हर दो सप्ताह में उनका टेस्ट भी किया जा रहा है। अन्य जिलों से आने वालों की भी सख्ती से मेडिकल जांच की जा रही है ताकि कहीं से भी कोई ढिलाई ना होने पाए। अगर कोरोना जैसी घातक महामारी से जल्द से जल्द निजात पाना है तो इतनी ही सख्ती के साथ पुलिस और प्रशासन को चौकस रहना होगा।

हालाँकि खुद प्रधानमंत्री ने यह बात कही है कि जो क्षेत्र इस अग्निपरीक्षा में सफल होंगे उन्हें कुछ छुट तो मिलेगी मगर शर्तों के साथ। मतलब कोरोना से लड़ाई अभी भी जारी रहेगी और इसके पूर्ण रूप से समाप्त होने के बाद ही सरकार की तरफ से कोई नया फैसला आ सकता है।

उदय बुलेटिन के साथ फेसबुक और ट्विटर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com