Medicine for Coronavirus
Medicine for Coronavirus|Uday Bulletin
टॉप न्यूज़

नवरात्रि के दिनों में दुनिया की आशा, कोरोना के इलाज में काफी हद तक कामयाबी। 

ये वो दौर है जहां अगर कोई कोरोना के इलाज के बारे में अफवाह भी उड़ा देता है तो बड़ी राहत सी मिल जाती है !

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

लेकिन अब हम आपको जो खबर सुनाने जा रहे है वह कोई अफवाह नहीं है बल्कि ये एक सत्य खबर है जिसपर आप भरोसा कर सकते है।

अमेरिका ने विकसित किया टीका :

दरअसल जैसे ही कोरोना बीमारी ने अमेरिका ने दस्तक दी उसके बाद से ही अमेरिकी दवा कंपनियों द्वारा सरकारी एजेंसियों के साथ मिलकर इस बात पर लगी हुई थी कि कैसे भी करके इस बीमारी का इलाज खोजा जाए और नतीजन पिछले कुछ दिनों पहले अमेरिका ने इस बीमारी के लिए टीका बनाने का दावा किया था लेकिन इसके क्लिनिकल परीक्षण किए जा रहे थे। लेकिन अब जबकि इस टीके का विश्व के चार देशो में परीक्षण किया गया है उसके बाद इसके बेहद उत्साहित करने वाले परिणाम आये है, जिससे लोगों मे एक उम्मीद बढ़ी है।

सफल परीक्षण और नतीजे बेहतर :

अमेरिका की रोग निवारक संस्था CDC ( सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन ) के अनुसार अमेरिकी वैज्ञानिकों ने क्लोरोक्वीन और हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन नामक दवाओं के योग से एक टीका बनाने का दावा किया है जिसके परीक्षण क्रमशः चीन, दक्षिण कोरिया, फ्रांस समेत अमेरिका में किये गए है जिनके नतीजे न सिर्फ कामयाब हुए है बल्कि इस दवा के उपयोग से मरीज में कोरोना के संक्रमण को बिल्कुल खत्म सा कर दिया है। अमेरिकी संस्था एफडीए ने लोगों पर इस दवा के इस्तेमाल के लिए मजूरी भी उपलब्ध कराई है। यहाँ आपको बताते चले कि पिछले एक माह से इन दवाओं का ट्रायल इन चार देशों में चल रहा था जिसके कारण इन देशों में मरीजो की रिकवरी में खासा उछाल पाया गया है। और मृत्यु दर अचानक से कम हो गयी है।

भारत करेगा इस्तेमाल :

चूकिं इस तरह की किसी दवा को प्रैक्टिस के रूप में इस्तेमाल करने के लिए एफडीए की मंजूरी मिलना बेहद आवश्यक है और चूंकि एफडीए किसी दवा के इस्तेमाल के लिए जल्द ही हरी झंडी नही देता। लेकिन यह मामला बहुत बड़ा और खतरनाक साबित होता जा रहा है इसलिए यह उम्मीद की जा रही है कि एफडीए इसको जल्द से जल्द अनुमति प्रदान करेगा ताकि रोगियों को इस बीमारी से निजात मिल सके और जैसे ही एफडीए इस दवा के प्रयोग की अनुमति देता है भारत इसे अपने यहाँ प्रयोग करना शुरू कर देगा।

उदय बुलेटिन के साथ फेसबुक और ट्विटर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com