congress party president election 2020
congress party president election 2020|Google Image
टॉप न्यूज़

कांग्रेस में नए अध्यक्ष की कवायद शुरू, देखना होगा इस बार टोपी किसे मिलती है?

कांग्रेस पार्टी में नेतृत्व परिवर्तन और सुधार की मांग के बीच कार्य समिति की बैठक सोमवार को शुरू हुई जिसमें सोनिया गांधी ने कहा कि नए अध्यक्ष के चुनाव को लेकर प्रक्रिया शुरू हो जानी चाहिए।

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

वैसे तो हमेशा से कांग्रेस पार्टी पर यह आरोप लगते रहे है कि कांग्रेस अध्यक्ष का चुनाव न सिर्फ दिखावी होता है बल्कि सत्ता की सबसे बड़ी चाभी गाँधी परिवार के पास ही रहती है, फिर चाहे कांग्रेस पार्टी का प्रधानमंत्री ही क्यों न हो। सोनिया गांधी और राहुल की मर्जी के बिना पत्ता नहीं हिल सकता।

कांग्रेस को मिलेगा गैर गांधी अध्यक्ष?

कांग्रेस पार्टी में सत्ता के केन्द्रीयकरण को लेकर निचले स्तर पर काफी लंबे वक्त से बहस छिड़ी हुई है लेकिन अब इसे बड़े नेतृत्व की मनमानी कहे या पार्टी की मजबूरी हर बार घुमा फिराकर पार्टी की कमान गांधी परिवार को सौप दी जाती है। फिर चाहे वह सोनिया गांधी हो या राहुल गाँधी। अब फिर से देश की सबसे पुरानी पार्टी के अध्यक्ष पद को नए सिरे से नेतृत्व के चयन की प्रक्रिया शुरू हो गयी है। सबसे मजेदार बात तो यह है कि पार्टी के नेताओ द्वारा इस पद को केवल दो लोगो के लिए नियत करने की मांग की जा रही है। पार्टी के एक धड़ा राहुल गाँधी तो दूसरा सोनिया गांधी को पुन पद देने की बात कर रहा है।

ढाक के तीन पात वाली कहावत को चरितार्थ करता हुआ यह ट्वीट:

आखिर नयेपन की उम्मीद क्यों नही है?

अगर कांग्रेस और नयेपन की बात की जाए तो ये सिर्फ एक बेमानी बात साबित होगी। अगर हम कांग्रेस के इतिहास की बात करें तो हमे देखने को यह मिलता है कि देश मे आजादी के बाद से ही कांग्रेस लंबे वक्त तक सत्ता पर काबिज रही उस वक्त से लेकर कांग्रेस में गांधी परिवार का लगातार दबदबा रहा और इसी तरह से कांग्रेस पार्टी की कमान केवल परिवार तक ही सीमित रही। उस वक्त से लेकर आज तक कांग्रेस में तमाम गैर गांधी परिवार के मजबूत और जनप्रिय नेता आये और गए लेकिन मजाल क्या की कोई कभी अपने नेतृत्व में पार्टी को चला पाया हो। विपक्षी दलों के नेताओं के विरोध और जनता के सवालों के बाद कुछ समयों पर पार्टी ने दूसरे नेताओं को पद तो दिया गया लेकिन उन अध्यक्षो पर भी रिमोट से चलने के आरोप लगते रहे।

पार्टी समेत समर्थक असमंजस में:

बीता हुआ दिन कांग्रेस के नेतृत्व को लेकर बेहद असमंजस में बिता कभी मीडिया रिपोर्टों के हवाले से यह बताया गया कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने अंतरिम अध्य्क्ष पद इस्तीफा दे दिया तो उसके बाद कांग्रेस प्रवक्ता सुरजेवाला ने इसका खंडन कर दिया।

कुलमिलाकर देखना होगा कि इस नाटकीय खेल का अंत किस तरह से समाप्त होता है क्योंकि जो होना है उसका होना पहले से ही लिखा जा चुका है बस चिट्ठी पत्रियों का दौर शुरू हो चुका है देश मे संदेश जाएगा और बाद में पार्टी कार्यकर्ताओं का हवाला देकर एक बार फिर परिवार से नया अध्यक्ष नामित किया जाएगा अथवा किसी गैर परिवारी नेता को यह पद दिया जाएगा लेकिन उसका असल संचालन परिवार से ही होगा।

उदय बुलेटिन के साथ फेसबुक और ट्विटर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com