सीरम इंस्टिट्यूट ने पीएम मोदी से पूँछा पूरे देश को वैक्सीन कैसे दोगे? क्या सरकार के पास इतने पैसे हैं ?

सीरम इंस्टिट्यूट के प्रमुख ने नरेंद्र मोदी से पूंछा सवाल क्या 80 हजार करोड़ रुपये है ?
सीरम इंस्टिट्यूट ने पीएम मोदी से पूँछा पूरे देश को वैक्सीन कैसे दोगे? क्या सरकार के पास इतने पैसे हैं ?
adar poonawalla and pm modiGoogel Image

पीएम मोदी द्वारा कोरोना वैक्सीन निर्माण और वितरण के बारे में देश को जानकारी दी गयी थी, अब इसी क्रम में वैक्सीन बनाने में महारत रखने वाली कंपनी सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया के सीईओ आदर पूनावाला ने ट्विटर पर पीएमओ को टैग करके सवाल दागा है।

80 हजार करोड़ रुपये है?

सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया के सीईओ आदर पूनावाला ने कोरोना वैक्सीन मामले में भविष्य की योजनाओं के मद्देनजर प्रधानमंत्री कार्यालय से एक झटपट वाला सवाल दागा है जिसमे साफ-साफ शब्दों में पूनावाला ने पूंछा है कि अगले साल तक वैक्सीन निर्माण के बाद क्या सरकार के पास 80 हजार करोड़ रुपये की भारी भरकम रकम है जिससे देशभर के लोगों को वैक्सीन का वितरण कराया जा सके।

पहले आप ट्वीट का सार समझिए:

त्वरित प्रश्न; क्या भारत सरकार के पास अगले एक साल में 80,000 करोड़ रुपये उपलब्ध होंगे? क्योंकि भारत में सभी को वैक्सीन वितरित करने के लिए @MoHFW_INDIA को इतने पैसे की जरूरत होगी। यह अगली चुनौती है जिससे हमें निपटने की जरूरत है। @PMOIndia

असली ट्वीट देखिए:

क्या बताई वजह:

दरअसल सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया भारत मे वैक्सीन निर्माण में सबसे बड़ी दावेदारी रखता है और जानकारी के अनुसार वह अपने वैक्सीन निर्माण की अंतिम फेज में कार्य कर रहा है। सीरम इंस्टिट्यूट के सीईओ ने अपने वक्तव्य में अपने इस सवाल की जायज वजह भी बताई है कि आखिर ये सवाल क्यों पूंछा गया है। आदर पूनावाला ने बताया कि "हम यह सवाल इसलिए पूंछ रहे है क्योंकि हमे वैक्सीन खरीद और उसके वितरण के हेतु भारत की जरूरतों के साथ-साथ विदेशों को भेजी जाने वाली वैक्सीन की जरूरतों के मद्देनजर तैयारी करने की जरूरत पड़ेगी।

मामला कुछ भी हो लेकिन इससे एक चीज साफ हो जाती है कि वैक्सीन निर्माण में अब भारत न सिर्फ अग्रसर है बल्कि वैक्सीन अपने सकारात्मक अंत की ओर बढ़ रही है। लेकिन यह भी सच है कि वैक्सीन के निर्माण के बाद उसे पूरे भारत मे जरूरतमंद लोगों तक पहुँचाने के लिए व्यापक तैयारी की आवश्यकता होगी जिसके लिए पहले से तैयार होना पड़ेगा।

भारत के पास है नेटवर्क:

हालाँकि वैक्सीन के वितरण को लेकर भारत के पास पहले से ही मजबूत वितरण प्रणाली उपलब्ध है जिसमे पोलियो वैक्सिनेशन और चाइल्ड वैक्सिनेशन इत्यादि शामिल है जो पहले भी बेहद कारगर रहे हैं। देखना यह होगा कि भारत सरकार वैक्सीन आने के बाद किस तरीके से कार्य करती है।

⚡️ उदय बुलेटिन को गूगल न्यूज़, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें। आपको यह न्यूज़ कैसी लगी कमेंट बॉक्स में अपनी राय दें।

Related Stories

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com