Uday Bulletin
www.udaybulletin.com
CBI निदेशक अलोक वर्मा
CBI निदेशक अलोक वर्मा|IANS
टॉप न्यूज़

CBI घूसकांड: निदेशक अलोक वर्मा को नहीं मिली क्लीन चिट, जाँच की जरुरत - SC 

अलोक वर्मा पर भ्रष्टाचार के आरोप एजेंसी के विशेष निदेशक राकेश अस्थाना ने लगाए हैं।

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

नई दिल्ली: सीबीआई (CBI) में कथित रिश्वत कांड के आरोपों के बीच सीबीआई निदेशक अलोक वर्मा को छुट्टी पर भेज दिया गया था। जिसके खिलाफ उन्होंने सुप्रीम कोर्ट में शिकायत दर्ज कराये थी। आलोक वर्मा की याचिका पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने CVC जांच के आदेश दिए थे। जिसके बाद सीबीआई चीफ आलोक वर्मा याचिका पर सुप्रीम कोर्ट सीवीसी की जाँच रिपोर्ट को आलोक वर्मा को सौंपने का आदेश दिया है। कोर्ट ने सीबीआईस चीफ आलोक वर्मा को सोमवार तक का समय दिया है। इसके साथ ही मंगलवार तक के लिए मामले की सुनवाई टाल दी है। हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना को सीवीसी की रिपोर्ट देने से मना कर दिया है , वहीं अदालत ने सरकारी वकीलों को भी कॉपी देने का आदेश दिया है।

प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई, न्यायमूर्ति संजय कौल और न्यायमूर्ति के.एम. जोसेफ की पीठ ने कहा कि रिपोर्ट के कुछ भाग वर्मा के लिए सम्मानजनक हैं, लेकिन कुछ भाग में ऐसा नहीं है। पीठ ने कहा कि कुछ ऐसे क्षेत्र हैं जिसकी जांच की जानी जरूरी है।

प्रधान न्यायाधीश गोगोई ने कहा कि सीवीसी रिपोर्ट वरिष्ठ वकील फली नरीमन को सीलबंद लिफाफे में दिया जाए और मामले की अगली सुनवाई के दिन 20 नवंबर से पहले इसका जवाब सीलबंद लिफाफे में पेश किया जाए।

आपको बता दें कि CBI के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना ने आलोक वर्मा पर 2 करोड़ की घूस लेने का आरोप लगाया था। इस मामले की जांच कर 12 नवंबर को CVC ने सील कवर में अपनी जांच रिपोर्ट सौंप दी थी। गौरतलब है कि कुछ दिन पहले सीबीआई ने अपने ही स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना के खिलाफ 2 करोड़ की रिश्वत लेने का केस दर्ज किया था। उन पर आरोप था कि उन्होंने मोइन कुरैशी मनी लॉन्ड्रिंग मामले में रिश्वत ली है। वहीं राकेश अस्थाना ने इसे साजिश बताया और आरोप लगाया कि सीबीआई ने चीफ ने खुद 2 करोड़ की रिश्वत ली है।

वर्मा की तरफ से पेश नरीमन ने कहा कि वे जल्द से जल्द रिपोर्ट का जवाब अदालत में पेश करना चाहेंगे। नरीमन ने संकेत दिया कि वे सोमवार को रिपोर्ट का जवाब दे सकते हैं।