उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
सामाजिक कार्यकर्ता तृप्ति देसाई
सामाजिक कार्यकर्ता तृप्ति देसाई|IANS
टॉप न्यूज़

आज खुलेंगे सबरीमाला मंदिर के पट: सामाजिक कार्यकर्ता तृप्ति देसाई कोच्चि हवाईअड्डे पर फंसी, धारा 144 लागू , BJP का प्रदर्शन 

गुरुवार शाम से 22 नवंबर तक केरल में धारा 144 लागू। 

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

कोच्चि | केरल में स्थित सबरीमाला मंदिर के पट आज से दो महीने के लिए खोले जाएंगे। लेकिन गुरुवार शाम से 22 नवंबर तक केरल में धारा 144 लागू कर दी गई है। जिसके तहत वहां किसी तरह का धरना प्रदर्शन नहीं हो सकेगा। इधर केरल देवास्वम बोर्ड सुप्रीम कोर्ट का आदेश लागू कराने के लिए कोर्ट से कुछ और समय की मांग कर सकती है। वहीं महिला अधिकार कार्यकर्ता तृप्ती देसाई सहित करीब 500 महिलाओं ने केरल पुलिस की वेबसाइट पर सबरीमला मंदिर के दर्शन के लिए पंजीकरण करवाया है। तृप्ती देसाई इसके लिए कोच्चि पहुंच भी चुकी हैं। एयरपोर्ट पर तृप्ति देसाई के ख़िलाफ़ प्रदर्शन भी शुरू हो गया है।

सामाजिक कार्यकर्ता तृप्ति देसाई और छह अन्य महिलाओं को हिंदू कार्यकर्ताओं के भारी विरोध का सामना करना पड़ रहा हैं। उन्हें कोच्चि हवाईअड्डे से बाहर निकलने ही नहीं दिया जा रहा। ये महिला कार्यकर्ता सबरीमाला मंदिर में प्रवेश करने के लिए शुक्रवार को यहां पहुंची।

देसाई और उनका समूह शुक्रवार तड़के लगभग 4.45 बजे यहां पहुंचा। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और संघ परिवार के कार्यकर्ता हवाईअड्डे के बाहर प्रदर्शन कर रहे हैं, जिस वजह से ये हवाईअड्डे से बाहर नहीं निकल पा रही हैं।

एक गुस्साई महिला प्रदर्शनकारी ने मीडिया को बताया, "हम उन्हें हवाईअड्डे से बाहर नहीं निकलने देंगे। वे मंदिर की परंपरा तोड़ने में क्यों अड़े हैं ? हम भी अटल हैं। हम उन्हें बाहर नहीं जाने देंगे।"पुलिस की अपील के बावजूद देसाई ने कहा कि वह भगवान अयप्पा मंदिर में प्रवेश किए बिना वापस नहीं लौटेंगी।

एर्नाकुलम जिले के वरिष्ठ पुलिस अधिकारी भी मौके पर पहुंच गए हैं और देसाई से बात कर रहे हैं।हवाईअड्डे पर पहुंचने से पहले कार्यकर्ता देसाई ने केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन से सुरक्षा का आग्रह किया।

वहीं बीजेपी नेता एमएम गोपी ने कहा है कि तृप्ति देसाई को एयरपोर्ट के बाहर पुलिस या दूसरी किसी भी सरकारी वाहन का इस्तेमाल नहीं करने दिया जाएगा। एयरपोर्ट में मौजूद टैक्सी चालक ही उन्हें ले जाएंगे। अगर वह एयरपोर्ट से बाहर आईं तो उनके खिलाफ रास्ते भर प्रदर्शन होगा।

आपको बात दें कि, केरल के DGP लोकनाथ बेहरा ने कहा है कि सबरीमाला मंदिर आने वाले श्रद्धालुओं को दर्शन के बाद रात में मंदिर परिसर में ठहरने की इजाजत नहीं दी जाएगी। DGP ने अन्य वर्षों की तुलना में इस साल सुरक्षा के इंतजाम बढ़ा दिए है। बेस कैंप निलक्कल में सुरक्षा इंतजामों की समीक्षा के बाद बेहरा ने संवाददाताओं से कहा कि मंदिर परिसर में किसी को ठहरने की अनुमति नहीं होगी। मंदिर के कपाट शुक्रवार को शाम पांच बजे से खुलेंगे और दो महीनों तक खुले रहेंगे।