रिया ने अपनी इमेज सुधारने के लिए दिया निजी चैनल को इंटरव्यू, ये इंटरव्यू कम इमेज रिब्रान्डिंग ज्यादा लग रहा है।

आप इतने बड़े हादसे पर अपनी बात हँस-हँस कर कैसे रख सकते है जब आपके दामन पर देश के एक बड़े जनसमुदाय द्वारा सुशांत की कथित हत्या का लगाया जा रहा हो।
रिया ने अपनी इमेज सुधारने के लिए दिया निजी चैनल को इंटरव्यू, ये इंटरव्यू कम इमेज रिब्रान्डिंग ज्यादा लग रहा है।
rhea chakraborty interview with rajdeep sardesaiGoogle Image

सुशांत की मौत के बाद देश भर में आक्रोश है लोग इस मामले पर रिया को ही मुख्य दोषी मान रहे हैं, और माने भी क्यों न आखिर रिया की करतूतें ही ऐसी है।

जरा सोचिये अगर आपका कोई अपना जिसे आप हद से ज्यादा प्यार करने का दावा करते हैं और अचानक एक दिन आपको उसकी मौत की खबर मिलती है लेकिन आप उसको देखने तक नहीं जाते जबकि आप उसके घर से कुछ ही दूरी पर हैं।

सामान्य परिस्थिति में ऐसा कैसे हो सकता है कि कोई आपका अपना इस दुनिया में न रहे और आप घर पर बैठे रहे और इंतज़ार करें कि मुझे जब निमंत्रण मिलेगा तब जायेंगे।

रिया मात्र कुछ सेकंड्स के लिए सुशांत के शव से मिलने पोस्टमार्टम हाउस पहुंची थी जहाँ पर रिया ने सुशांत के शव से "सॉरी बाबू" कहकर कन्नी काट ली।

लोगों का विचार है कि जिस सुशांत ने रिया पर करोड़ों रूपये पानी की तरह बहाए वो इतनी बेरहम कैसे हो सकती है? क्या वो मामले के बाद सीधे सुशांत के घर नहीं पहुँच सकती थी? लोगों को रिया के लिए तमाम थ्योरियाँ हाजिर है देखते हैं है जांच में क्या सामने आता है।

हालांकि रिया के ड्रग्स और रुपयों की हेराफेरी की जानकारी प्रकाश में आ चुकी है

अब बात करते हैं रिया और राजदीप के स्पोंसर्ड इंटरव्यू की.......

अगर सुशांत को हवाई यात्रा से डर लगता था तो यह क्या था, लोगों ने राजदीप और रिया से तीखे सवाल पूंछे हैं।

रिया कितनी सच्ची और कितनी बेचारी:

अगर सीबीआई की जांच और ईडी में हुई पूंछताछ का हवाला लिया जाए तो रिया की संजीदगी बड़ी बेरुखी सी निकल कर सामने आती है। रिया का इंटरव्यू में बेहद अप्रत्याशित तरीके से जवाब देना और सुशांत के मरने के बाद सुशांत के पैसे का निजी उपयोग करना तमाम तरीके के बहानेबाजी करना रिया के अभिनय पर सवाल उठाते है।

लोगों के अनुसार यह इंटरव्यू भी केवल रिया की बेचारगी दिखाने और दोषमुक्त होने का दावा करने के लिए किया गया एक प्रोपेगैंडा ही था।

राजदीप की विश्वसनीयता कितनी है:

राजदीप एक पुराने और मंझे हुए पत्रकार जरूर है लेकिन पिछले वक्त से उनकी विश्वसनीयता पर लगातार उठ रहे है चाहे पूर्व राष्ट्रपति के द्वारा उनकी शैली पर राजदीप को डांटना हो या फिर उन्ही पूर्व राष्ट्रपति की मौत की झूठी अफवाह उड़ाकर माफी मांगना या फिर रिलाइंस के मुखिया मुकेश अंबानी के द्वारा उन्हें उनकी असलियत बताना हो।कहीं न कहीं राजदीप का यह इंटरव्यू खुद राजदीप और निजी न्यूज़ चैनल के लिए खतरनाक साबित हो सकता है।

लोगों ने कुछ पुराने इंटरव्यू को आधार बना कर चैनल पर ही आरोप लगाने शुरू कर दिए हैं।

⚡️ उदय बुलेटिन को गूगल न्यूज़, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें। आपको यह न्यूज़ कैसी लगी कमेंट बॉक्स में अपनी राय दें।

Related Stories

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com