उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी (Congress President Rahul Gandhi) 
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी (Congress President Rahul Gandhi) |IANS
टॉप न्यूज़

राहुल गांधी का PM Modi पर एक और निशाना: PM जी बोगीबेल ब्रिज पर पोज देना छोड़ कर खदान में फंसे 15 मजदूरों को बचा लीजिये

राहुल गांधी ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी को इन खनिकों की जान बचाने के लिए हर जरूरी कदम उठाना चाहिए।

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

नई दिल्ली: मेघालय (Meghalaya) में पिछले दो हफ्ते से 15 खनिक कोयला खदान में फंसे है। 15 खनिकों को बचने के बचाव कार्य तो किये जा रहे हैं लेकिन अब तक आपदा प्रबंधन टीम को सफलता नहीं मिल पाई है। वहीं केंद्र सरकार भी इन खनिकों को बचाने के लिए जरुरी संसाधनों की व्यवस्था करने से इंकार कर चूकि है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने केंद्र सरकार की इस गैर-जिम्मेवार हरकत पर निशाना साधते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) पर तंज कसा है। राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने दावा किया कि केंद्र सरकार ने बचाव कार्य के लिए जरूरी हाई प्रेशर पंप की व्यवस्था करने से इनकार कर दिया। उन्होंने यह भी कहा कि प्रधानमंत्री (PM Modi) को इन खनिकों की जान बचाने के लिए हर जरूरी कदम उठाना चाहिए।

गांधी ने ट्वीट कर कहा, ‘‘पानी से भरी कोयले की खदान में पिछले दो हफ्ते से 15 खनिक सांस लेने के लिए संघर्ष कर रहे हैं। इस बीच, प्रधानमंत्री बोगिबील सेतु पर कैमरों के सामने पोज देते हुए अकड़कर चलने के लिए चल रहे थे। उनकी सरकार ने बचाव के लिए हाई प्रेशर वाले पंपों की व्यवस्था करने से इनकार कर दिया।’’ उन्होंने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री जी, कृपया खनिकों को बचाइए।’’

इससे पहले कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने भी नरेंद्र मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा, '11 दिनों से 15 खनिक मेघालय के जयंतिया हिल्स में मुश्किल हालात में फंसे हुए हैं। पानी निकालने का काम तत्काल तेज किया जाना चाहिए। एक-एक मिनट महत्वपूर्ण है।"

उन्होंने कहा, 'मोदी सरकार की ओर से देर से प्रतिक्रिया की गई। मैं खनिकों की सुरक्षा के लिए प्रार्थना करने खुद को राष्ट्र के साथ शामिल करता हूं।'

आपको बता दें कि, ये 15 खनिक 13 दिसंबर से खदान में फंसे हुए हैं। दो पम्पो के माध्यम से पानी निकलने का काम तो किया जा रहा है लेकिन आपदा प्रबंधन अधिकारियों का कहना ही कि खदान के पास नहीं बाह रही है। जिससे पानी काम होने का नाम ही नहीं ले रहा है।