उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
कृषि कुम्भ सम्मलेन
कृषि कुम्भ सम्मलेन|DD News
टॉप न्यूज़

पूरी तरह फ्लॉप शो था प्रधानमंत्री का ‘कृषि कुम्भ’ सम्मलेन: किसान मंच 

योगी आदित्यनाथ सरकार द्वारा विगत दिनों आयोजित ‘कृषि कुम्भ‘ को लेकर भाजपा और सपा के दरम्यान तकरार के बीच किसानों के एक संगठन ने भी इस तीन दिवसीय कार्यक्रम को नाकाम करार दिया है।

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार द्वारा विगत दिनों आयोजित ‘कृषि कुम्भ‘ को लेकर भाजपा और सपा के दरम्यान तकरार के बीच किसानों के एक संगठन ने भी इस तीन दिवसीय कार्यक्रम को नाकाम करार दिया है।

‘राष्ट्रीय किसान मंच‘ के अध्यक्ष शेखर दीक्षित ने कहा कि गत शुक्रवार से रविवार के बीच लखनऊ में आयोजित हुआ ‘कृषि कुम्भ‘ पूरी तरह ‘फ्लॉप शो’ और जनता के पैसे का दुरुपयोग था।

उन्होंने कहा कि यह किसानों के लिये केवल ‘विंडो शापिंग‘ का मौका था, जो आधुनिक कृषि उपकरणों और प्रौद्योगिकी को देख तो सकते थे लेकिन उसे अपने खेतों में नहीं ले जा सकते थे, क्योंकि प्रदेश सरकार ने किसानों को आर्थिक रूप से मजबूत करने के लिये कुछ नहीं किया।

इस बीच, भाजपा के प्रान्तीय प्रवक्ता शलभमणि त्रिपाठी ने इन आरोपों को गलत बताते हुए कहा कि किसानों के लिये जितना काम केन्द्र की नरेन्द्र मोदी सरकार और उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने किया है, उतना किसी और सरकार ने नहीं किया।

उन्होंने दावा किया कि कृषि कुम्भ से किसानों का खेती के प्रति नजरिया सुधरा है, जिसका उन्हें निश्चित रूप से फायदा मिलेगा।

आपको बता दें, कि उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में राज्य सरकार और केंद्र सरकार के सयुंक्त प्रयास द्वारा पिछले शुक्रवार को 'कृषि कुम्भ’ मेले का आयोजन किया गया था। दो दिवसीय सम्मलेन में प्रधानमंत्री वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये जुड़े थे। इस सम्मलेन में उत्तर प्रदेश के मुख्य मंत्री योगी आदित्यनाथ और केंद्रीय कृषि मंत्री राधा मोहन सिंह मौजूद थे। मेले में किसानों के रहने और खाने पीने का उचित प्रबंध किया गया था।

'कृषि कुंभ' सम्मलेन में किसानों को खेती की आधुनिक तकनीक के बारे में बताया गया था, जिससे खेती को एक नई दिशा दी जा सके। इसके अलावा भारतीय गन्ना अनुसंधान में खेती के विभिन्न मॉडलों के बारे में जानकारी दी गई थी।