Uday Bulletin
www.udaybulletin.com
मंत्रिमंडल के विस्तार के बाद कांग्रेस 
मंत्रिमंडल के विस्तार के बाद कांग्रेस |Google
टॉप न्यूज़

राजस्थान मंत्रिमंडल में हुआ विभागों का बंटवारा, गहलोत के पास गृह, वित्त विभाग तो पायलट को मिला ग्रामीण विकास और पंचायती राज 

राजस्थान में विभागों के बटवारें को लेकर दिल्ली में मुख्यमंत्री गहलोत, उप मुख्यमंत्री पायलट, राहुल गांधी, अविनाश राय पांडे और के सी वेणुगोपाल के साथ बैठक के बाद, मंत्रालयों का आवंटन रात दो बजे हुआ

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

जयपुर: राजस्थान के राज्यपाल कल्याण सिंह ने गुरुवार तड़के मंत्रिमंडल के सदस्यों को विभागों का आवंटन किया। राज्य में तीन दिन पहले ही 23 मंत्रियों ने पद की शपथ ली थी। राजस्थान में विभाग बटवारें को लेकर बने खींचतान के बीत बुधवार रात दो बजे मंत्रालयों का आवंटन हुआ। दरअसल राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) और उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट (Sachin Pilot) के बीच वित्त और गृह मंत्रालय को लेकर खींचतान चल रही थी। जिसे सुलझाने के लिए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) को आना पड़ा।

इसके बाद दो दिन तक विभागों के बटवारें को लेकर दिल्ली में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट ,अध्यक्ष राहुल गांधी, प्रदेश प्रभारी अविनाश राय पांडे, पर्यवेक्षक के सी वेणुगोपाल के साथ कई दौर की बैठकें हुईं। निष्कर्ष के बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की सलाह पर राज्यपाल कल्याण सिंह ने मंत्रियों के विभागों का बंटवारा कर दिया।

जानकारी के मुताबिक, गृह और वित्त सहित अशोक गहलोत ने अपने पास नौ मंत्रालय रखे हैं | गहलोत ने गृह, वित्त , आबकारी, आयोजना, नीति आयोजन, कार्मिक व सामान्य प्रशासन विभाग मंत्रालय सहित मुख्य विभाग अपने पास रखे हैं जबकि उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट को लोक निर्माण विभाग और ग्रामीण विकास विभाग मिले हैं। सामान्य प्रशासन, सूचना प्रौद्योगिकी एवं दूरसंचार विभाग भी गहलोत के पास हैं जबकि सार्वजनिक निर्माण विभाग, ग्रामीण विकास विभाग, पंचायती राज विभाग, विज्ञान व प्रौद्योगिकी और सांख्यिकी विभाग पायलट को दिए गए हैं। मुख्यमंत्री और उप-मुख्यमंत्री के अलावा 13 कैबिनेट और 10 राज्य मंत्रियों को विभागों का बंटवारा किया गया है।

आपको बता दें कि, कांग्रेस ने राजस्थान मंत्रिमंडल का गठन आगामी लोकसभा चुनाव 2019 के मद्देनज़र किया है।राजस्थान में जातीय समीकरण को देखते हुए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कैबिनेट का विस्तार किया है और मंत्रियों को शामिल किया है। ज्ञात हो की राजस्थान में मुख्यमंत्री पद के चुनाव के दौरान भी अशोक गहलोत और सचिन पायलट के बीच खिंचतान जारी थी। जिसे दिल्ली में राहुल गाँधी ने सुलझाया था।