बाँदा में हर घर जल की योजना चल रही युद्ध स्तर पर

उत्तर प्रदेश के बाँदा जिले में मोदी जी की हर घर जल योजना का कराये बेहद तीजी के साथ कार्य जा रहा है।
बाँदा में हर घर जल की योजना चल रही युद्ध स्तर पर
बाँदा जिले में हर घर जल योजना का कार्य होता हुआ सोशल मीडिया

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की महत्वाकांक्षी परियोजना हर घर जल योजना का बाँदा जिले में बड़े युद्ध स्तर पर चल रहा है दरअसल बुंदेलखंड लंबे वक्त से पेयजल समस्या से जूझ रहा था हालांकि नरेंद्र मोदी कई बार बुंदेलखंड की रैलियों में इस समस्या को जड़ से खत्म करने की बात कर चुके है हालांकि अब यह योजना इस क्षेत्र में मूर्त रूप ले रही है।

क्षेत्र में हो रहा कार्य:

अब इसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के सख्त निर्देश कहा जाएगा कि जिस परियोजना की मांग करीब दो दशकों से चली आ रही थी अब उसपर लगभग युद्ध स्तर से कार्य कराया जा रहा है। जिले को पेयजल की समस्या को निदान करने के लिए हर कस्बे गांव- गली- कूचे को पेयजल से भरपूर बनाने के लिए बड़ी बड़ी पाइपलाइनों का जाल बिछाया जा रहा है। यहीं नहीं इस योजना के तहत हर गांव और मजरे के हर घर को पाइपलाइन के जरिये सप्लाई उपलब्ध कराने का लक्ष्य रखा गया है। बाँदा से अतर्रा जाने वाले राष्ट्रीय राजमार्ग के दोनो तरफ बड़े-बड़े पाइपों को बिछाकर जिले के हर कोने तक पानी की उपलब्धता कराई जा रही है।

भूमिगत जल के स्तर के गिरने से भीषण हुई समस्या:

ऐसा नहीं की बुंदेलखंड हमेशा ही पेयजल के लिए भटकता रहा हो हालांकि कुछ इलाके जैसे माणिकपुर एवं पाठा का क्षेत्र इसके लिए एक बहुत बड़ा उदाहरण है लेकिन अन्य भूभाग में पेयजल की उपस्थिति थी लेकिन दशकों से पहले जैसे ही भूमिगत जल का जमीनी स्तर कम होता गया और हैण्डपम्प और भूमिगत जल के स्रोत कुएं इत्यादि समाप्त हुए तो यह समस्या विकराल रूप लेकर सामने आ गयी।

सुलझ जाएगी समस्या:

जिस बुंदेलखंड में यह कहावत कही जाती हो कि "गगरी न फूटे खसम मर जाये" अर्थात पानी की भरी हुई गगरी न फूटे भले ही पति की मौत हो जाये। उस क्षेत्र में पेयजल की विभीषिका का अंदाजा लगाया जा सकता है। अब ऐसे वक्त में इतनी बड़ी परियोजना का क्षेत्र में शुरू होना उम्मीदों के पुल बांधता है। अब देखना यह होगा कि इस परियोजना का समापन बिना लेटलतीफी और बिना कमीशनखोरी के पूरा होता है अथवा नहीं।

⚡️ उदय बुलेटिन को गूगल न्यूज़, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें। आपको यह न्यूज़ कैसी लगी कमेंट बॉक्स में अपनी राय दें।

No stories found.
उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com