उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) की टीम ने दिल्ली व उत्तर प्रदेश में 16 ठिकानों पर छापेमारी
राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) की टीम ने दिल्ली व उत्तर प्रदेश में 16 ठिकानों पर छापेमारी |Twitter
टॉप न्यूज़

NIA की दिल्ली व उत्तर प्रदेश में छापेमारी, आतंकियों की RSS दफ्तर और दिल्ली दहलाने की थी तैयारी

हरकत-उल-हर्ब-इस्लाम के लिए काम करने वाले ये संदिग्ध 26 जनवरी के मौके पर दिल्ली पुलिस मुख्यालय और आरएसएस दफ्तर पर हमले की योजना बना रहे थे। 

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

नई दिल्ली: राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) की टीम ने दिल्ली व उत्तर प्रदेश में 16 ठिकानों पर छापेमारी करके आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट (IS) के एक नए मॉड्यूल 'हरकत-उल-हर्ब-ए-इस्लाम' (Harkat-ul-Herb Islam) का पर्दाफाश किया है और कथित रूप से उत्तर भारत खासकर दिल्ली में हमला करने की साजिश रचने के आरोप में इसके सरगना सहित 10 संदिग्धों को हिरासत में लिया है। एनआईए के एक अधिकारी ने कहा कि विभिन्न स्थानों पर सुबह छापेमारी शुरू की गई जो अभी भी जारी है।

उत्तर प्रदेश में जहां एनआईए (NIA) ने राज्य के आतंकवाद-रोधी दस्ते (ATS) के साथ संयुक्त रूप से मिलकर छापेमारी की, वहां के अमरोहा जिले से पांच लोगों को हिरासत में लिया गया है। एजेंसी ने जिहादी साहित्य के अलावा एक पिस्तौल और ग्रेनेड लॉन्चर बरामद किया है।

एक आधिकारिक सूत्र ने कहा कि अमरोहा में कथित मॉड्यूल सरगनाओं में से एक सुहैल को एक पिस्तौल और विस्फोटक सामग्री के साथ हिरासत में लिया गया है। ऐसे ही छापे सिंभावली, लखनऊ और अन्य स्थानों पर मारे गए।

पूर्वी दिल्ली के जाफराबाद इलाके में एनआईए (NIA) ने दिल्ली पुलिस के विशेष सेल के साथ मिलकर छापेमारी कर सात पिस्तौलें और तलवारें बरामद की।

एनआईए (NIA) के सूत्रों के मुताबिक, दिल्ली में ऐसी पांच टीमें थीं जो राष्ट्रीय राजधानी में महत्वपूर्ण कार्यालयों पर हमले की योजना बना रही थीं।

एनआईए (NIA) प्रवक्ता ने कहा कि दिल्ली और उत्तर प्रदेश के 16 ठिकानों पर छापेमारी चल रही है। 'हरकत उल हर्ब इस्लाम' (Harkat-ul-Herb Islam) आईएसआईएस (ISIS) से जुड़ा हुआ है। हालांकि, छापेमारी अभी भी जारी है। उन्होंने यह भी कहा कि छापेमारी तड़के सुबह शुरू हुई। बताया जा रहा है कि दिल्ली के जाफराबाद और यूपी के अमरोहा के सैदपुर में छापेमारी जारी है।

एनआईए (NIA) सूत्र ने कहा कि पकड़े गए लोगों से पूछताछ में मॉड्यूल से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारियां, उनकी योजनाओं और इसका संचालन करने वालों के बारे में खुलासा हो सकेगा।

--आईएएनएस