The wire anti biased journalism
The wire anti biased journalism|Uday Bulletin
टॉप न्यूज़

पूर्व नौकरशाहों के साथ मिलकर द वायर न्यूज़ पोर्टल ने जारी किया नया फतवा।

अब इसे नाटक न कहा जाए तो क्या कहा जाए, अब जब तबलीगी जमात की हरकतों की वजह से हालात बेकाबू हो चुके है तो पूर्व नौकरशाहों के द्वारा एक नया विक्टिम कार्ड खेला जा रहा है।

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

क्या है नया शिफूगा ?

दरअसल देश के करीब एक सैकड़ा से ज्यादा पूर्व नौकरशाहों ने लगभग सभी प्रदेशों के मुख्यमंत्रियों को पत्र लिखकर एक नया सेटअप तैयार किया है जिसकी वजह से समाज मे एक नई बहस छिड़ चुकी है, जिसके तहत सरकारों पर यह आरोप लगाए जा रहे है कि मुस्लिमों को उनका हक इस कोरोना वायरस की महामारी के बीच नहीं मिल पा रहा है। पूर्व नौकरशाहों के साथ-साथ द वायर ने इस खबर को लोगों तक पहुचाने के लिए जिन की वर्ड्स (Keywords) का इस्तेमाल किया है वह कहीं न कहीं से समाज मे जहर घोलने का काम कर सकता है।

तक़रीबन 101 नौकरशाहों ने विभिन्न राज्यों के मुख्यमंत्रियों से अनुरोध किया है कि वो राज्य में किसी भी समुदाय के सामाजिक...

Posted by The Wire Hindi on Saturday, April 25, 2020

क्या कहा नौकरशाहों ने ?

चूंकि अब पूर्व नौकरशाह है तो सत्ता की बारीकियों से परिचित हैं और उन्हें पता है कि सरकार कब किस समय सबसे ज्यादा कमजोर और उलझने वाली स्थिति में होती हैं। मौके और माहौल पर नजर रखकर इस काम को अंजाम दिया गया है, चूंकि पहले से ही देश और विदेश में समाज के कुछ वर्गों द्वारा यह हवा फैलाई गई है कि भारत मे समुदाय विशेष का जीवन मुश्किल में है जबकि यह कोई बताने को तैयार नही है कि असल मे समाज के इसी समुदाय ने कोरोना जैसी महामारी की स्थिति को विषम्य बना दिया है। इसीलिए कुछ चुनिदा मीडिया हाउस जो पहले से ही सरकार की किसी भी अच्छी और बुरी नीतियों से इत्तेफाक नहीं रखते उन्होंने कुछ पूर्व बड़े अधिकारियों जिंनमे भारत की खुफिया एजेंसी रिसर्च एंड एनालिसिस विंग (RAW) के पूर्व प्रमुख भी शामिल है उनके कंधे पर बंदूक रख कर एजेंडा चलाया जा रहा है।

द वायर निजी रंजिश को लेकर हलाकान है :

दरअसल द वायर का सरकार के हर मुद्दे पर अपना विरोध जताना बेहद जायज है क्योंकि पहले से ही पूर्वाग्रह से ग्रसित यह न्यूज़ पोर्टल सरकार को अपनी हनक दिखाने में लगा रहा है लेकिन बदकिस्मती यह है मौजूदा सरकार में यह पैंतरा कामयाब होता नहीं दिखता। यही नही निजी नजरिये से इस समाचार प्रदाता को एक पत्रकार और सेवा प्रदाता सही और दूसरा गलत लगने लगता है, यही कारण है कि उत्तर प्रदेश सरकार ने उक्त पोर्टल के एक संपादक के ऊपर मुकदमा भी पंजीकृत कराया है।

उदय बुलेटिन के साथ फेसबुक और ट्विटर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com