iran attack on american embassy baghdad
iran attack on american embassy baghdad|Twitter
टॉप न्यूज़

दुनिया मे नए युद्ध की आहट, बगदाद में अमेरिकी दूतावास पर दो राकेट दागे गए !

अमेरिका-ईरान की टेंशन कहीं तीसरे विश्व युद्ध का संकेत तो नहीं।

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

Summary

दोनो देशों के अपने-अपने नजरिये है कोई मारे गए सेनानायक को देश का मसीहा बता रहा है तो कोई दुनिया के लिए खतरनाक चरमपंथी आतंकी, लेकिन शक की सुई इस बात पर अटक रही है कि कही ये झड़प कही तीसरे विश्वयुद्ध की आहट तो नही ।

शुक्रवार को हुए ईरानी सैन्य कमांडर कासिम सुलेमानी की एयर स्ट्राइक में हुई मौत के बाद अमेरिका ने रुकने का नाम नहीं लिया और अगले दिन की रात के खत्म होने के पहले फिर से अपनी ताकत का नजराना पेश करके कुछ और इराक की जमीन पर ईरानी समर्थक मिलिशिया अल शाबी के काफिले पर हमला करके करीब छह लोगों को मौत के घाट उतार दिया, इसके बाद से ही ईरान के हवाले से यह खबर आई कि ईरानी कमांडर जनरल गोलामली अबू हमजा ने यह घोषणा की है कि अमेरिकी जहां नजर आएंगे वहीँ मार दिए जाएंगे।

लेकिन ताजा हालात और खतरनाक है :

अभी-अभी ताजा समाचारों के अनुसार इराक स्थित अमेरिकी दूतावास पर मध्य इराक के बलाद एयरबेस से दो रॉकेटों को दागा गया, जिसमें से एक राकेट पूरी तरह अमेरिकी दूतावास के अंदर जाकर फटा जहां अमेरिकी सैनिकों की तैनाती थी, हालांकि इस मामले में अभी तक किसी के घायल होने की खबर नहीं आई है इस मामले पर एएफपी न्यूज एजेंसी से सूचना प्रसारित की है।

इसके बाद भी यह सूचना प्राप्त हुई कि दो रॉकेट या मिसाइल इराक में अमेरिकी सैन्य ठिकानों पर दागे गए है।

बढ़ रहा तनाव :

जैसे-जैसे इस घटनाक्रम को बयानों और हरकतों से बढ़ाया जा रहा है वैसे-वैसे तीसरे विश्व युद्ध के लिए जमीन तैयार की जा रही है। एक ओर जहां ईरान अपने पड़ोसी ( मुस्लिम देशों ) की लॉबिंग कर रहा है वही अमेरिका भावी युद्ध के लिए साजो समान मौके पर ले जाने की जुगत में है, वहीँ रूस और चीन ने भी अमेरिका को नसीहतें जारी की है। वहीँ प्राप्त सूचना के अनुसार इजरायल अपनी तरफ से भी मोर्चा बंदी शुरू कर रहा है। जानकारों की माने तो हालात बेहद नाजुक है, किसी भी क्षण किसी बड़े युद्ध का एलान किया जा सकता है।

पूरा विश्व झेलेगा त्रासदी:

ऐसा नही है कि इस युद्ध को केवल अमेरिका और ईरान ही लड़ेंगे ,चूंकि ये युद्ध केवल और केवल वर्चस्व और मूल्य का है, दुनिया के हर देश यहाँ तक कि हर जीवित जीव को इस युद्ध का मूल्य चुकाना पड़ेगा !

उदय बुलेटिन के साथ फेसबुक और ट्विटर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com