उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
Siddu
Siddu|Google
टॉप न्यूज़

विधानसभा चुनाव 2018: कांग्रेस के स्टार प्रचारकों में राहुल के बाद नवजोत सिंह सिद्धू टॉप पर है! 

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव में बड़े पैमाने पर प्रचार में जुटे रहे हैं. राहुल अपने बिजी शेड्यूल की वजह से हर जगह नहीं पहुंच सकते.

Suraj Jawar

Suraj Jawar

कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू भले ही करतारपुर दौरे और कैप्टन अमरिंदर सिंह को लेकर विवादों में हों. लेकिन तीन हिन्दी भाषी राज्यों में चल रहे विधानसभा चुनावों में उनकी डिमांड की बात करें तो राहुल के बाद शेरी ऑन टॉप हैं.

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव में बड़े पैमाने पर प्रचार में जुटे रहे हैं. राहुल अपने बिजी शेड्यूल की वजह से हर जगह नहीं पहुंच सकते. लिहाजा पार्टी के दूसरे लोकप्रिय नेताओं को प्रचार के लिए भेजा जा रहा है. इस लिस्ट में राहुल गांधी और राज्य के बड़े नेताओं के बाद सिद्धू की मांग सबसे ज़्यादा है. अपनी बेहतरीन संवाद शैली के लिए फेमस सिद्धू के भाषण वोटरों के बीच काफी लोकप्रिय हैं.

हर राज्य में कांग्रेस ने स्टार प्रचारकों की सूची जारी की है, जिसमें राहुल समेत 50 नेता शामिल हैं. लेकिन दिलचस्प बात है कि, कांग्रेस के बड़े बड़े दिग्गज नेताओं से ज़्यादा डिमांड सिद्धू की है. छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश के बाद राजस्थान की तस्वीर भी कुछ ऐसी ही है.

राजबब्बर दूसरे नंबर पर

कांग्रेस की ओर से अगर भीड़ जुटाने की बात की जाए तो इस सूची में क्रिकेटर से पॉलिटिशियन बने सिद्धू के बाद दूसरा नंबर किसी नेता का नहीं बल्कि फिल्म जगत से राजनीति में आए राजबब्बर का है.

रुपये की कीमत में गिरावट पर पीएम मोदी की मां को घसीटकर विवादित बयान देने के बाद भी उनकी डिमांड बनी हुई है, उनका स्टारडम भी प्रत्याशियों को अपनी तरफ खींच रहा है. दरअसल अगर कांग्रेस के राज्यस्तरीय नेताओं को छोड़ दें तो केंद्रीय स्तर पर सिद्धू और राजबब्बर की जोड़ी ने सबको पीछे छोड़ दिया है.

सिंधिया, दिग्विजय का राजस्थान में डेरा

वैसे राहुल के बाद केंद्रीय नेताओं में ज्योतिरादित्य सिंधिया भी डिमांड में हैं, लेकिन मध्य प्रदेश में अहम चेहरा होने के चलते वो अपने ही राज्य में देर तक उलझे रहे. एमपी में मतदान के बाद सिंधिया जैसे ही फ्री हुए तो राजस्थान का रुख कर लिया उनकी भी जबरदस्त डिमांड चल रही है.

इसके अलावा मध्य प्रदेश से फ्री होकर राजपूत राजघरानों में दखल रखने वाले दिग्विजय सिंह भी सीधे राजस्थान पहुंच गए हैं. वैसे मध्य प्रदेश में भी दिग्विजय सिंह पर्दे के पीछे से ज़्यादा बड़ी भूमिका निभाते दिखे थे.

गंगाजल लेकर सौंगध खाने वाले आरपीएन सिंह की भी है मांग

साथ ही छत्तीसगढ़ में हाथ में गंगाजल लेकर 10 दिन में किसान कर्ज माफ करने की सौगंध खाने वाले आरपीएन सिंह भी छत्तीसगढ़ के बाद अब राजस्थान में भी डिमांड पर हैं. राजपरिवार से आने वाले आरपीएन राजस्थान में राजघरानों में खासा दखल रखते हैं, इसलिए उनका भी खासा इस्तेमाल हो रहा है. इस मुद्दे पर कांग्रेस नेता आरपीएन सिंह ने कहा कि, कांग्रेस हर जगह एकजुट होकर मज़बूती से चुनाव लड़ रही है और जनता जुमलेबाज बीजेपी को हराकर कांग्रेस को वोट देगी.

इनके अलावा ब्राह्मण बेल्ट में राजीव शुक्ला, प्रमोद तिवारी और मनीष तिवारी केंद्रीय नेताओं की फेहरिस्त में आगे हैं. वहीं कांग्रेस के मीडिया प्रभारी रणदीप सुरजेवाला ने प्रियंका चतुर्वेदी, पवन खेड़ा और जयवीर शेरगिल की अपनी टीम के साथ राजस्थान में डेरा जमाया हुआ है.