Uday Bulletin
www.udaybulletin.com
 केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी
केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी|IANS
टॉप न्यूज़

मेनका का AIR यौन उत्पीड़न मामले पर राठौर को पत्र, जांच की मांग

उन्होंने यह भी कहा कि महिला द्वारा उचित अधिकारियों से शिकायत करने के बावजूद अब तक कोई कार्रवाई नहीं की गई है।

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

नई दिल्ली | केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी ने केंद्रीय सूचना व प्रसारण ( Ministry of Information and Broadcasting ) मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर से देश भर के ऑल इंडिया रेडियो (एआईआर) स्टेशनो में यौन उत्पीड़न के आरोपों की जांच कराने को कहा है। मेनका गांधी का यह पत्र उन रिपोर्टों की प्रतिक्रिया में आया है, जिसमें कहा गया है कि एआईआर (AIR) में अस्थायी उद्घोषिकाओं के रूप में कार्य कर रहीं महिलाओं का यौन उत्पीड़न किया जा रहा है।

दरअसल, हाल में ही देश भर से आल इंडिया रेडियो के कई स्टेशनों में काम करने वाली महिला कर्मचारियों ने यौन शोषण और दुर्व्यवहार की शिकायतें की है। बता दें, यौन उत्पीड़न का आरोप लगाने वाली महिलाओं को दोबारा ऑल इंडिया रेडियो में काम नहीं दिया गया है। जिसके खिलाफ आल इंडिया रेडियो कैजुवल अनाउंसर एंड कम्पेरेस यूनियन (AICACU) ने मेनका गाँधी को चिट्टी लिखे थी। जिसके बाद मेनका ने इसपर करवाई करते हुए केंद्रीय सूचना व प्रसारण मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर से देश भर के ऑल इंडिया रेडियो (एआईआर) स्टेशनो में यौन उत्पीड़न के आरोपों की जांच कराने को कहा है।

मेनका गांधी ने एक पत्र में लिखा, "मैं यह बताना चाहती हूं कि कार्यस्थल पर यौन उत्पीड़न अधिनियम समान रूप से सभी महिला कर्मचारियों पर लागू होता है, चाहे हो वह महिला स्थायी हो, अस्थायी हो या कैजुअल कर्मचारी हो।"

उन्होंने यह भी कहा कि महिला द्वारा उचित अधिकारियों से शिकायत करने के बावजूद अब तक कोई कार्यवाही नहीं की गई है।

मेनका गांधी ने कहा, "मैं जानती हूं कि यह एक प्रवृत्ति सी है कि एक कैजुअल महिला कर्मचारी द्वारा जैसे ही यौन उत्पीड़न की रिपोर्ट की जाती है, संस्थान तुरंत उसे बर्खास्त कर देता है। लेकिन यह सही नहीं है। अगर महिला यौन उत्पीड़न की शिकायत करती है तो एक जिम्मेदार संस्थान को निश्चित ही उस महिला को न्याय देना चाहिए।"