Mayawati
Mayawati|Google 
टॉप न्यूज़

मायावती को तगड़ा झटका, 6 विधायक कांग्रेस में शामिल।

राजस्थान में बहुजन समाज पार्टी प्रमुख मायावती को बड़ा झटका देते हुए उनके सभी छह विधायक कांग्रेस में शामिल हो गए हैं।   

Uday Bulletin

Uday Bulletin

Summary

इसके साथ ही विधानसभा में कांग्रेस के कुल विधायकों की संख्या 106 हो गई है।

सोमवार रात लगभग 9.30 बजे सभी छह विधायकों ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से मुलाकात की और उसके बाद विधानसभा अध्यक्ष सी.पी. जोशी से मुलाकात की, जिनके पास उन्होंने कांग्रेस में शामिल होने का प्रस्ताव पत्र दाखिल किया। जोशी ने अपनी मंजूरी दे दी और रात में ही सभी छह विधायक कांग्रेस में शामिल हो गए।

ये विधायक बारी से गिरिराज सिंह, नवलगढ़ से राज कुमार शर्मा, गंगापुर सिटी से रामकेश मीणा, सपोतारा से रमेश मीणा, उदयपुरवती से राजेंद्र गुडा और दौसा से मुरारीलाल मीणा हैं।

इससे पहले राजस्थान में कांग्रेस सरकार को बसपा बाहर से समर्थन कर रही थी।

हालांकि बसपा प्रदेश अध्यक्ष सीताराम मेघवाल और प्रदेश प्रभारी धरमवीर अशोक ने पूरी घटना को नजरंदाज कर दिया है।

उन्होंने कहा, "अगर हमें यह पता होता तो हम यह कभी नहीं होने देते।"

मुख्यमंत्री अशोख गहलोत ने कहा, "छह विधायकों के निर्णय का स्वागत करना चाहिए क्योंकि उनका उद्देश्य स्पष्ट है। राजस्थान को विकास पथ पर आगे ले जाने के लिए हम साथ काम करेंगे।"

सी.पी. जोशी ने कहा, "हमें छह विधायकों के विलय का पत्र प्राप्त हुआ था और इसमें कोई कानूनी अड़चन नहीं है।"

भारतीय जनता पार्टी (BJP) के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने हालांकि कहा कि पूरा घटनाक्रम गहलोत का डर दिखाते हैं क्योंकि कांग्रेस के पास काफी कम बहुमत है और उप मुख्यमंत्री कानून व्यवस्था की स्थिति पर अपनी ही सरकार की आलोचना कर अप्रत्यक्ष रूप से मुख्यमंत्री की कार्यशैली पर सवाल उठा चुके हैं। गहलोत के पास ही गृह विभाग है।

सूत्रों ने पुष्टि करते हुए कहा कि इस विलय से कांग्रेस को आगामी पंचायत और निकाय चुनावों में सहायता मिलेगी। वहीं इससे कांग्रेस में अंतर्कलह होने की भी संभावना है क्योंकि शामिल हुए बसपा के विधायकों को उच्च पद का आश्वासन दिया गया है, जिन पर कांग्रेस के कुछ नेताओं की नजर है।

राज्य विधानसभा में अब कांग्रेस के 106 विधायक, भाजपा के 72 विधायक, 13 निर्दलीय, भारतीय ट्राइबल पार्टी (बीटीपी) के दो, मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के दो, राष्ट्रीय लोक दल (रालोद) का एक और राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी (रालोपा) के दो विधायक हैं। दो विधायकों के सांसद बनने और उन सीटों पर अभी उपचुनाव नहीं होने के कारण दो सीटें रिक्त हैं।

उदय बुलेटिन के साथ फेसबुक और ट्विटर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com