पालघर में कोरोना फैलने से बचाने वाले को मिला इनाम, छुट्टी पर घर भेजा

इस वाकये से महाराष्ट्र सरकार की मंशा नजर आ रही है, लोगों के अनुसार महाराष्ट्र सरकार अपनी करतूतों को छिपाने और तुष्टिकरण करने के लिए ईमानदार अधिकारियों की बलि चढ़ा रही है।
पालघर में कोरोना फैलने से बचाने वाले को मिला इनाम, छुट्टी पर घर भेजा
IPS Gaurav SinghPhoto Credit (Twitter @chitraaum)

नेकी कर और छुट्टी जा :

नेकी कर और दरिया में डाल वाली कहावत के शब्द और मायने थोड़ा बदल गए हैं, महाराष्ट्र सरकार इस मुश्किल वक्त में भी ईमानदार लोगों पर अंकुश लगाकर उन्हें घर पर बैठाने में मगशूल है। ताजा मामला पालघर से जुड़ा हुआ है जहां पर पालघर के एसपी आईपीएस गौरव सिंह को महाराष्ट्र सरकार ने समुदाय विशेष की आपत्ति पर घर भेज दिया है। दरअसल कोरोना के फैलते संक्रमण के बीच महाराष्ट्र में होने जा रहे मरकजी जमात के कार्यक्रम को रद्द करके हज़ारों लोगों की जान को बचाया था। लेकिन समुदाय विशेष की आपत्ति के बाद महाराष्ट्र सरकार द्वारा इस मामले पर एसपी के विरूद्ध ही कार्यवाही करके उन्हें छुट्टी पर भेज दिया है। लोगों के अनुसार महाराष्ट्र सरकार द्वारा पालघर के मामले में लीपापोती करके अपनी कमियां छुपाने का प्रयास किया जा रहा है।

पिछले दिनों पालघर सुर्खियों में था :

दरअसल यह कार्यवाही पालघर में हुए साधू हत्याकांड के मामले को लेकर हुई है, जहां मुंबई से गुजरात जाने वाले दो साधुओं समेत कार चालक को भीड़ द्वारा पुलिस की मौजूदगी में बेरहमी से मार डाला गया था। हालाँकि इस मामले पर महाराष्ट्र सरकार ने पहले तो बड़ी लीपापोती की लेकिन जब हत्या के वीडियो सोशल मीडिया में फैले तो सरकार को घुटनों के बल आना पड़ा और अब इस मामले पर लीपापोती करने के उद्देश्य से जिला एसपी को छुट्टी का बहाना बनाकर मामले से हटाया जा रहा है। यहाँ सनद रहे कि एसपी गौरव अपनी कार्यशैली के लिए जाने जाते है पिछले दिनों मरकज में होने वाली जमात को रोकने की वजह से गौरव समुदाय विशेष के निशाने पर आ गए थे।

⚡️ उदय बुलेटिन को गूगल न्यूज़, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें। आपको यह न्यूज़ कैसी लगी कमेंट बॉक्स में अपनी राय दें।

No stories found.
उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com