Rioters Hoarding Case in Supreme Court
Rioters Hoarding Case in Supreme Court|Uday Bulletin
टॉप न्यूज़

लखनऊ होर्डिंग मामला: सुप्रीमकोर्ट है या मजाक, लोगों के तमाम रिएक्शन आये सामने। 

लोगों के अनुसार जो कोर्ट एक प्रमाणित आतंकी के लिए आधी रात को सुनवाई के लिए दरवाजे खोल देता है, उस पर विश्वास करना मुश्किल होता दिख रहा है। 

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

योगी और कोर्ट :

मामला उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से जुड़ा हुआ है जहां सीएए और एनआरसी के विरोध प्रदर्शन के दौरान हुई आगजनी और हिंसा हुयी थी। जहाँ सरकार ने दंगाइयों से निबटने के लिए पहले तो निजी और सार्वजनिक संपत्ति को तबाह करने वाले असामाजिक तत्वों की पहचान की और फिर उनके पोस्टर लखनऊ में टांग दिए और नुकसान की वसूली करने के लिए सम्मन जारी कर दिए।

Rioters Hoardings in Lucknow 
Rioters Hoardings in Lucknow  Google

एक ओर जहां प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ दंगाइयों से निबटने के लिए कोई कोर कसर नहीं छोड़ रहे है वहीँ दूसरी ओर दंगो में सम्मिलित लोग पहले हाईकोर्ट और उसके बाद सुप्रीमकोर्ट पहुंचे जहां दोनो जगह अदालत ने योगी के कदम को गलत ठहराया है। अब इस मामले में आम जनता जिनका इस दंगे में नुकसान हुआ है उसको कोर्ट के इस फैसले से मायूशी हुयी है। लोगों का मानना है कि कोर्ट का यह कदम योगी सरकार का मनोबल तोड़ने का काम करेगा। और दंगाइयों का मनोबल बढ़ेगा।

होर्डिंग मामले पर हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस गोविंद माथुर ने फैसला सुनाते हुए कहा कि “सरकार यह बताने में नाकाम रही कि लोगों की निजी जानकारी बैनरों में क्यो दी गयी? यह दर्शाता है कि प्रसाशन ने सत्ता का दुरुपयोग किया है” इसके बाद तो सोशल मीडिया पर व्यंगों की झड़ी लग गयी। लोगों ने हिंसा के दृश्यों को डालकर सुप्रीम कोर्ट और हाईकोर्ट पर करारा हमला किया है।

क्या है लोगों का तर्क :

दंगा प्रभावित लोगों के अनुसार भारत की न्यायपालिका इन दिनों आतंकियों और दंगाइयों को बचाने में मस्त है। उसे कभी आतंकियों में इंसान की बू आती है तो कभी दंगाइयों में भटके हुए इंसान की।लोगों ने कोर्ट के निर्णय पर आरोप लगाया कि जब इन्ही दंगाइयों द्वारा निजी और सार्वजनिक संपत्ति को आगजनी के जरिये जलाया जा रहा था तब इनकी मासूमियत कहाँ गायब हो गयी थी? लोग निर्भया मामले को लेकर भी भारतीय न्यायपालिका की खिल्ली उड़ाते हुए नजर आ रहे है।जिसके तहत रेप और हत्या जैसे जघन्य अपराध के बाद भी दोषियों को जेल में मजे की रोटियां खिलाई जा रही है।

समाजवादी पार्टी ने लगाए कुलदीप सिंह सेंगर और चिन्मयानंद के पोस्टर:

योगी सरकार द्वारा दंगाइयों के होर्डिंग लगाए जाने के बाद सपा ने लखनऊ में बीजेपी के पूर्व नेता कुलदीप सिंह सेंगर और रेप के आरोपी पूर्व केंद्रीय मंत्री चिन्मयानंद की फोटो के साथ होर्डिंग लगाए हैं।

सपा द्वारा लगाए गए पोस्टर में लिखा है, ''ये हैं प्रदेश की बेटियों के आरोपी, इनसे रहें सावधान।''

समाजवादी पार्टी द्वारा बैनर पर कुलदीप सेंगर और चिन्मयानंद के फोटो के साथ उनके खिलाफ आरोप भी लिखे गए हैं। ये पोस्टर पूरी रात लगे रहे और अगले दिन सुबह इसे लखनऊ पुलिस द्वारा हटाया गया।

ज्ञात हो पूर्व बीजेपी विधायक कुलदीप सेंगर उन्नाव में युवती संग रेप के मामले में दोषी पाये जा चुके हैं वहीं, पूर्व बीजेपी नेता स्वामी चिन्मयानंद को भी पिछले साल सितंबर में गिरफ्तार किया गया था। चिन्मयानन्द पर शाहजहांपुर की एक युवती ने यौन शोषण का आरोप लगाया था।

उदय बुलेटिन के साथ फेसबुक और ट्विटर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com