केरल के राज्यपाल ने सबरीमाला मंदिर में की पूजा, लोगों ने कहा ये मुस्लिम ही नही

आरिफ मोहम्मद खान ने सबरीमाला मंदिर में पूजा की तो मुस्लिम समुदाय के लोग उन्हें दोगला बोलने लगे
केरल के राज्यपाल ने सबरीमाला मंदिर में की पूजा, लोगों ने कहा ये मुस्लिम ही नही
आरिफ मोहम्मद खान ने सबरीमाला मंदिर में पूजा कीTwitter

भारत एक सहिष्णु देश है यहां लोगों को अपनी निजी स्वीकृति के आधार पर धर्म चुनने और पूजा पद्धति अपनाने की आजादी है लेकिन केरल राज्य के राज्यपाल के तौर पर तैनात मोहम्मद आरिफ खान के द्वारा सबरीमाला मंदिर में पूजा करने को लेकर धर्मांधों ने बवाल मचाना शुरू कर दिया है

राज्यपाल ने की पूजा, लोगों के पेट मे उठा दर्द:

धर्म के प्रति अंधापन और दूसरे धर्म के प्रति घृणा कितनी खराब हो सकती है इसका ताजा उदहारण सामने आया है, दरअसल केरल राज्य के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान के द्वारा दक्षिण के सबसे बड़े आध्यात्मिक केंद्रों में से एक सबरीमाला में जाकर विधिवत पूजा अर्चन किया गया। यहां आपको बताते चले कि मोहम्मद आरिफ खान की गिनती देश के उन गिने-चुने मुस्लिमों में होती है जो धर्म मे आने वाली कट्टरता को स्थान नही देते। राज्यपाल के पूजा करने के बाद मुस्लिम समुदाय और कुछ सो काल्ड जाग्रत लिबरलों के पेट मे उदर पीड़ा होनी शुरू हो चुकी है। यही नही कथित तौर पर मोहम्मद आरिफ खान को गैर मुस्लिम भी करार दिया जाने लगा है।

कोई लुका छुपी नही, खुलेआम की पूजा:

हालांकि हर बार ऐसा नही होता, अगर दूसरे धर्मों के मानने वालों को लगता है कि उन्हें अपने धर्म से इतर किसी अन्य धर्म के आराध्य की पूजा करनी है तो यह कार्यक्रम बेहद गोपनीय किया जाता है लेकिन आरिफ मोहम्मद खान के बाकायदा केरल के राजभवन के ऑफिसियल ट्विटर हैंडल ने सभी तस्वीरों को पोस्ट करके जानकारी दी। ट्वीट में बताया गया कि राज्यपाल ने हिन्दुओं के आस्था के केंद्र सबरीमाला में भगवान अयप्पा की पूजा की।

आपको बताते चले कि सबरीमाला लोगों के लिए कोई नया नाम नही है। इससे पहले भी सबरीमाला महिलाओं के प्रवेश को लेकर चर्चा में रह चुका है। दरअसल सबरीमाला में भगवान अयप्पा की पूजा होती है और मान्यताओं के अनुसार भगवान अयप्पा ब्रम्हचारी स्वरूप में है यहाँ पर रजस्वला महिलाओं के प्रवेश को पुरातन समय से निषेध किया गया है, इस स्थान पर छोटी बालिकाएं और बुजुर्ग महिलाएं ही प्रवेश पा सकती है।

⚡️ उदय बुलेटिन को गूगल न्यूज़, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें। आपको यह न्यूज़ कैसी लगी कमेंट बॉक्स में अपनी राय दें।

No stories found.
उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com