hathini ki hatya
hathini ki hatya|Google image
टॉप न्यूज़

इंसान ने साबित किया वह सबसे वहशी जानवर है, केरल मामले को लेकर लोगों मे उबाल

इंसान को सामाजिक जानवर कहा जाता रहा है, अब शायद उसमे सामाजिकता ही नहीं बची, वरना एक गर्भवती मादा हाथी को फल खिलाकर विष्फोट करने वालों को प्रकृति कभी माफ नहीं कर पायेगी

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

अगर जानवरों की बात करें तो हाथी कुत्ते और बंदर इंसान के काफी चहेते माने जाते है और वक्त आने पर लंबे समय से काम आए है लेकिन चंद हड्डियों और दांतो के लिए इंसान इनका कत्ल करता चला आ रहा है, अबकी बार केरल में इंसानियत का कत्ल हुआ है वो भी इंसानो के हाथों धोखे से दरअसल केरल में एक मादा गर्भवती हथिनी को कुछ लोगों ने अनानास खिलाया और अनानास के अंदर पटाखे/विस्फोटक रखे गए थे जिसकी जलन और तपन से हथिनी पानी मे चली गयी जहाँ पर मादा हांथी ने दम तोड़ दिया।

विराट कोहली ने इस मामले पर अपना दुःख व्यक्त किया।

गर्भ में बच्चा भी मारा गया:

चूंकि गर्भ काफी अपरिपक्व था और माता की मौत के बाद गर्भ भी समाप्त हो गया। पोस्टमार्टम में मादा के पेट से मृत गर्भ को निकाला गया वाकये को देखकर पूरे भारत मे वन्य जीव प्रेमी इस मामले को लेकर अपना विरोध जताने लगे और इंसान को सबसे वहशी जानवर करार दिया। सनद रहे कि इस मामले में मादा हांथी ने तीन दिन तक तकलीफ सही ताकि उसका गर्भ और वो बच सके। इस दौरान उसे वन विभाग ने उसे राहत पहुचाने के लिए तमाम कोशिशे की लेकिन डॉक्टरों की टीम हाथी के पानी मे होने की वजह से मदद नही पहुचा पाई, आखिर कार तीन दिन तक बिना खाये हथिनी ने दम तोड़ दिया।

हाथियों की मदद से मादा हाथी को निकालने की कोशिश की जाती हुई।

आखिर ये कैसी शिक्षा?

मौत के बाद जब डॉक्टरों की टीम ने मादा हांथी का पोस्टमार्टम किया तो डॉक्टरो की आंखों में आंसू थे उन्होंने बस इतना ही कहा कि "वह अकेले नही मरी।

दिल दुखाने वाला मंजर।

लोगों के सवाल है कि जिस प्रदेश में शिक्षा का प्रतिशत इतना ऊंचा है वहां इतनी क्रूर मानसिकता? आखिर इंसान अपने जानवर की खाल से चाह कर भी आगे नही जा सकता है। इंसानी फिदरत तो यह है कि वह हर हाल में किसी भी तरीके से केवल अपना फॉयदा देखना चाहता है यही कारण है कि इंसानो ने जानवरो की कुछ प्रजातियां लगभग समाप्त ही कर दी है। और कुछ के हालात तो इस तरह है कि दुनिया से विदा भी हो चुकी है , और अगर हांथी की बात करे तो ये इंसानो के बेहद करीब तक आने वाला समाजिक जंगली जीव है यदा कदा की घटनाओं को अगर छोड़ दिया जाए तो ये बेहद शांत चित्त का जानवर है और शाकाहारी है।

उदय बुलेटिन के साथ फेसबुक और ट्विटर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com