राहुल गांधी के जम्मू-कश्मीर दौरे पर राज्यपाल ने कहा ‘मैंने उन्हें बुलाया था लेकिन सबकुछ प्रशासन के हाथ में था’

श्रीनगर से वापस क्यों लौटे राहुल गांधी, राज्यपाल सत्यपाल मालिक ने बताया कारण 
राहुल गांधी के जम्मू-कश्मीर दौरे पर राज्यपाल  ने कहा ‘मैंने उन्हें बुलाया था लेकिन सबकुछ प्रशासन के हाथ में  था’
J&K Governor, SP Malik Social Media

24 अगस्त को कांग्रेस पार्टी के नेता राहुल गांधी और पूरे विपक्षी दल को श्रीनगर एयरपोर्ट से दिल्ली भेज दिया गया था। राहुल गांधी पार्टी के कुछ अन्य नेताओं के साथ जम्मू-कश्मीर का दौरा करना चाहते थे, लेकिन प्रशासन ने उन्हें मंजूरी नहीं दी। राहुल ने जम्मू-कश्मीर से दिल्ली लौट कर कहा कि हमें जम्मू-कश्मीर में घुसने नहीं दिया जाना दुर्भाग्यपूर्ण था, इसके साथ ही उन्होंने जम्मू-कश्मीर प्रशासन और सरकार पर कई आरोप लगाए। लेकिन अब जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मालिक ने खुद ही बता दिया कि आखिर राहुल गांधी को जम्मू-कश्मीर में क्यों नहीं घुसने दिया।

राज्यपाल सत्यपाल मालिक ने कहा कि "मैंने राहुल गांधी को जम्मू-कश्मीर आने का न्योता दिया था, जिसे राहुल गांधी ने अनैतिक बिज़नेस बना दिया। मेरे राज्य के बारे में जब उन्होंने कहा था कि लोग वहां मर रहे हैं, गोलियां चल रही है, तब मैंने कहा था कि ऐसा नहीं है अगर आपको ऐसा लगता है तो आप यहां आकर देख लीजिए। पहले तो पांच दिन तक उन्होंने इसका कोई जवाब नहीं दिया, फिर कहा कि मैं लोगों को लेकर आऊंगा, मैं वहां के लोगों से मिलूंगा, वहां बंद नेताओं से मिलूंगा, सेना से मिलूंगा। फिर मैंने कहा कि मुझे आपकी यह शर्त मंजूर नहीं है और मैं अपना प्रस्ताव वापस लेता हूं।

जिसके बाद मैंने उनसे कहा कि मैं आपके इस प्रस्ताव को मैं जम्मू-कश्मीर प्रशासन के उपर छोड़ता हूं, अगर उन्हें लगता है कि आपके आने से कोई दिक्कत नहीं होगी तो आप आ सकते हैं और उन्हें ऐसा नहीं लगा तो वो आपको वापस भेज देंगे। अबकी जब उन्होंने आने का विचार बनाया तो प्रशासन ने पहले ही मना कर दिया था, यहां पहले से दिक्कत है, पाकिस्तान से लगातार धमकियां रही हैं, राज्य में शांति व्यवस्था बहाल करना है, जो इनपुट्स मिल रहे हैं उससे निपटना है, ऐसे में आपलोगों का आने ठीक नहीं है और आपलोग जिस तरह की बात टीवी पर बोल रहे हैं उसका पाकिस्तान मिसयूज कर सकता है।

और वही हुआ भी, उन्होंने वहां से आने के बाद जो बोला उसपर इमरान खान ने ट्वीट कर मिसयूज किया है, पाकिस्तानी मीडिया ने मिसयूज किया है। तो मैं यही कहना चाहता हूं कि यह नेशनल इंट्रेस्ट का मामला है इस मामले में इस तरह का व्यवहार नहीं करना चाहिए और इस बता को ख़त्म कर जम्मू-कश्मीर में शांति व्यवस्था बहाल करे में हमारी मदद करनी चाहिए।”

सत्यपाल मालिक के अलावा आज बसपा प्रमुख मायावती ने भी राहुल गांधी की इस यात्रा पर आपत्ति जताई है। मायावती ने ट्वीट कर कहा कि 'जम्मू-कश्मीर से 70 सालों के उपरांत अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद वहां की स्थिति सामान्य नहीं है, वहां के हलातों को ठीक होने में थोड़ा समय लगेगा। इसलिए हमें इंतज़ार करना चाहिए। कांग्रेस पार्टी और अन्य नेताओं का इस तरह वहां जाना उचित नहीं था, उन्हें जाने से पहले थोड़ा विचार कर लेना चाहिए था।’

आपको बता दें कि, राहुल गांधी और विपक्षी पार्टियों के नेता जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद वहां की स्थिति का जायजा लेने पहुंचे थे।

⚡️ उदय बुलेटिन को गूगल न्यूज़, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें। आपको यह न्यूज़ कैसी लगी कमेंट बॉक्स में अपनी राय दें।

No stories found.
उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com