उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
आयकर विभाग पुणे 
आयकर विभाग पुणे |Google image
टॉप न्यूज़

चार साल में 60 फीसदी बढ़ी करोड़पतियों की संख्या : आयकर विभाग 

आयकर विभाग द्वारा जारी किये गए आंकड़ों के अनुसार देश में आयकर रिटर्न दाखिल करने वालों की संख्या में 80 फीसदी का इजाफा हुआ है। 

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

नई दिल्ली :आयकर विभाग द्वारा जारी किये गए आंकड़ों के अनुसार देश में आयकर रिटर्न दाखिल करने वालों की संख्या में 80 फीसदी का इजाफा हुआ है, ऐसे लोगों की संख्या अब 1.40 लाख हो गई है। पिछले चार सालों में एक करोड़ से ज्यादा आमदनी वाले करदाताओं की संख्या में 60 फीसदी का इजाफा हुआ है केंद्रीय प्रत्यक्ष कर नियंत्रण बोर्ड ने आंकड़ों को जारी करते हुए कहा कि पिछले चार साल की अवधी में आयकर रिटर्न दाखिल करने वालों की संख्या में इजाफा हुआ है , जिससे देश में टैक्स चोर काम हो रही है।

  • एक करोड़ रूपये से ज्यादा कमाई वाले कुल करदाता - 2014 -2015 - 88,649 हजार
  • एक करोड़ रूपये से ज्यादा कमाई वाले कुल करदाता - 2017 -2018 - 1,40,139 लाख
  • आयकर रिटर्न दाखिल करने वाले लोग - 2014 -2015 - 3.79 करोड़
  • आयकर रिटर्न दाखिल करने वाले लोग - 2017 -2018 - 6.85 करोड़

केंद्रीय प्रत्यक्ष कर नियंत्रण बोर्ड के चेयरमैन सुशील चंदा ने कहा कि वित्त वर्ष 2017 -2018 के दौरान प्रत्यक्ष कर-जीडीपी अनुपात पिछले 10 वर्षों ने सबसे बेहतर रहा है , आपको बता दे वित्त वर्ष 2016 -2017 में प्रत्यक्ष कर-जीडीपी अनुपात 5. 98 फीसदी रहा था। पिछले चार सालों में हमारे देश के करोड़पतियों की संख्या में इजाफा हुआ है 2013 -2014 में हमारे देश में कुल 3. 79 करोड़पति थे जो बढ़कर २०१-2018 में 6. 85 करोड़ हो गए हैं।

आयकर कानून में सुधार और सूचना प्रसार का नतीजा

केंद्रीय प्रत्यक्ष कर नियंत्रण बोर्ड के चेयरमैन सुशील चंदा ने करोड़पति करदाताओं की संख्या में इजाफा होने का श्रेय आयकर विभाग को दिया है। उन्होंने अपने बयाना में कहा कि " यह संख्या आयकर विभाग की ओर से पिछले चार सालों के दौरान कानून में सुधार , सुचना प्रसार एवं कड़ाई से आयकर कानून का पालन करवाने की दिशा में उठाए गए कदमों का परिणाम है। 2014 -2015 में 88,649 लोगों ने अपनी आमदनी एक करोड़ से ज्यादा घोषित की है।

आयकर विभाग

आकलन वर्ष 2014 -2015 से वर्ष 2017 2018 के बीच एक करोड़ रुपये से ज्यादा आय वाले लोगों व्यक्तिगत करदाताओं की संख्या में भी विर्धि देखी गई है जो 48416 से बढ़कर 81344 हो गई है। पिछले चार वर्षों में 68 फीसदी वृद्धि दर्ज की है।