कानपुर में दिखा मॉब लिंचिंग (Mob Lynching) का भयानक रूप, पानी के छीटें पड़ने पर हुई हत्या

उत्तर प्रदेश के कानपुर में पानी की छींटे पड़ने पर कुछ लोगों ने पिंटू निषाद नाम के युवक की पीट-पीट कर मार डाला।
कानपुर में दिखा मॉब लिंचिंग (Mob Lynching) का भयानक रूप, पानी के छीटें पड़ने पर हुई हत्या
पानी की छींटे बनी हत्या की वजह उदय बुलेटिन

हालांकि इस मामले को मॉब लिंचिंग (Mob Lynching) के पैमाने पर रखा भी जाता है या नहीं ये रिसर्च का विषय है। क्योकि इस लिंचिंग मे अपनी जान खोने वाले का नाम पिंटू निषाद था। मामला उत्तर प्रदेश के कानपुर से जुड़ा हुआ है। जहाँ पर सड़क पर पड़े हुए एक पानी के पाउच पर पैर पड़ने के बाद उड़े हुए छींटे गिरने पर भीड़ के साथ धावा बोला और पिंटू निषाद को मौत के घाट उतार दिया गया है। मामले में आरोपियों पर सरकार द्वारा राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत कार्यवाही किये जाने की बात कही जा रही है।

पानी के छीटें बने हत्या का सबब:

मामला उत्तर प्रदेश के कानपुर से जुड़ा हुआ है। जहा के वाजिदपुर गांव में एक दिल दहला देने वाला मामला संज्ञान में आया है। यहाँ आपको बताते चले कि कानपुर के यह गांव वाजिदपुर मुस्लिम बाहुल्य है और निषाद समुदाय अल्पसंख्यक की स्थिति में और इस गांव में किसी व्यक्ति का यह साहस नहीं है कि वह दूसरे समुदाय के लोगों के सांमने सिर उठाकर चल सके।

मामले की शुरुआत तब हुए जब पिंटू निषाद रास्ते पर किसी काम से जा रहा था। उस वक्त रास्ते मे लगभग खाली पड़े पानी के पाउच पर पैर पड़ गया जिससे कुछ छींटे निकल कर सड़क के किनारे खड़े मोहम्मद फैज, सरफराज आलम, मोहसिन और मेहराज के साथ अन्य मुस्लिम समुदाय के लोगों पर पड़ गए।

इन छींटों को लेकर मुस्लिम समुदाय के लोगों ने विवाद करना शुरू कर दिया। हालांकि मौके पर उपलब्ध लोगों ने यह जानकारी दी कि पिंटू ने इसे अनजाने में हुई गलती भी बताया (हालांकि सड़क पर चलने से फैलने वाले छीटें किसी गलती में ही नहीं आते) लेकिन सरफराज के साथ अन्य लोगों के पिंटू निषाद की जाति को गालियां देते हुए पिंटू पर पत्थर ईंट से मारपीट शुरू कर दी और पिंटू को तब तक मारा जबतक वह मरकर जमीन पर नहीं गिर गया।

इलाके में बढ़ा तनाव, पुलिस ने संभाला मोर्चा: इस मॉब लिंचिंग की घटना जब पिंटू के परिजनों और समुदाय के लोगों के पास पहुंची तो लोग पिंटू को मौके पर से उठाने की कोशिश में गए लेकिन पिंटू के परिजनों ने बताया कि मानो मुस्लिम समुदाय पहले से तैयार बैठा था और निषाद समुदाय पर ईंट पत्थर, लाठी डंडो से टूट पड़े।

हालांकि माहौल के खराब होने पर पुलिस ने मौके पर पहुंच कर स्थिति को संभालने का प्रयास किया। परिजनों ने सरकार तक अपनी आवाज पहुंचाने के लिए रास्ते पर शव रखकर सड़क को जाम भी किया लेकिन जिला प्रशासन के द्वारा परिजनों को समझाने और दोषियों पर कड़ी कार्यवाही करने के आश्वासन के बाद परिजनों ने मामले को शांत किया।

सरकार ने उठाये कड़े कदम, लगाया रासुका:

मामले पर प्रदेश सरकार ने बिना कोई रियायत बरतते हुए कार्यवाही करने की बात कही और ग्यारह मुख्य आरोपियों में से चार लोगों मोहसिन, सरफराज, फैज और मेहराज को गिरफ्तार करके राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत कार्यवाही की है साथ ही अन्य आरोपियों को पकड़ने के लिए जगह-जगह पर दबिश दी जा रही है।

⚡️ उदय बुलेटिन को गूगल न्यूज़, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें। आपको यह न्यूज़ कैसी लगी कमेंट बॉक्स में अपनी राय दें।

Related Stories

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com