उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
google image
google image|yogi and akhilesh
टॉप न्यूज़

लोकसभा चुनाव 2019: योगी ने कैसे लिया अखिलेश से 4 साल पुराना बदला !

आपने 1994 में आई फिल्म विजयपथ का वो गाना सुना होगा ‘रुक रुक रुक अरे बाबा रुक’ इन दिनों देश की राजनीति में भी कुछ इसी तरह राज्य की सरकारें दूसरे दल के नेताओं को रोकने में लगी हुई है।

Anuj Kumar

Anuj Kumar

कुछ दिनों पहले ममता बनर्जी ने यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ को बंगाल आने से रोका। फिर योगी आदित्यनाथ ने 12 फरवरी को अखिलेश यादव को प्रयागराज जाने से रोक दिया। तर्क ये दिया गया कि आपके आने से कानून व्यवस्था बिगड़ सकती है।

ANI Twitter
ANI Twitter
Akhilesh Yadav

प्रशासन ने अखिलेश यादव को लखनऊ एयरपोर्ट के पास ही रोक लिया। इस बीच अखिलेश यादव और अधिकारियों के बीच वाद-विवाद भी हुआ। इसके बाद लखनऊ, प्रयागराज, गोरखपुर समेत तमाम शहरों में एसपी समर्थकों ने धरना प्रदर्शन किया। प्रदर्शन के दौरान पुलिस और कार्यकर्ताओं के बीच झड़प भी हुई।

जैसे जैसे ये मामला तूल पकड़ने लगा वैसे ही एक बात सामने आई कि योगी आदित्यनाथ ने अखिलेश यादव से बदला ले लिया। अब सवाल ये है कि ये किस बदले की बात हो रही है। दरअसल, साल 2015 में इसी तरह इलाहाबाद यूनिवर्सिटी में छात्र संघ का चुनाव हुआ था। जिसमें एबीवीपी ने चार सीटों पर जीत दर्ज की। इस जीत की खुशी में एबीवीपी ने एक कार्यक्रम का आयोजन किया। जिसमें मुख्य अतिथि योगी आदित्यनाथ थे। उस वक्त योगी गोरखपुर से सांसद थे और अखिलेश यादव सूबे के मुख्यमंत्री । प्रशासन ने उस वक्त प्रयागराज(इलाहाबाद) में योगी आदित्यनाथ की एंट्री पर ही बैन लगा दिया था। योगी ने दो बार प्रयागराज पहुंचने की कोशिश की लेकिन दोनों बार उन्हें प्रयागराज(इलाहाबाद) सीमा से ही वापस भेज दिया गया। जिसके बाद योगी आदित्यनाथ ने फोन पर ही छात्रों को संबोधित किया था। माना जा रहा है कि ये उस समय का ही बदला लिया गया है।

इस बीच बसपा सुप्रीमो मायावती ने ट्विट कर योगी सरकार को जमकर कोसा। लेकिन सबसे रोचक बात ये रही कि बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने भी ट्विट कर योगी सरकार पर निशाना साधा। वो ही ममता जो बंगाल में बीजेपी नेताओं को कानून व्यवस्था का हवाला देकर घुसने नहीं दे रही है।

हर नेता अपनी-अपनी तरफ से रुक रुक रुक वाला पॉलिसी इख्तियार किए हुआ है।

क्या हुआ है इलाहाबाद यूनिवर्सिटी में

इलाहाबाद यूनिवर्सिटी में छात्र संघ का चुनाव हुआ। इस चुनाव में सपा के छात्र संघ ने अध्यक्ष पद जीता। जीत की खुशी में कार्यक्रम का आयोजन किया गया था। चुनाव के दौरान काफी हिंसा हुई। मंच पर बम तक फेंके गए। यूनिवर्सिटी में फायरिग भी हुई। मौजूदा हालात को देखते हुए कॉलेज प्रशासन ने छात्रों को घर जाने का आदेश दिया है।