घाटमपुर कांड: संतान प्राप्ति की चाहत में बच्ची का जिगर कलेजा निकालकर कच्चा खाया, मारने से पहले रेप को अंजाम दिया गया

उत्तर प्रदेश के घाटमपुर से ऐसा ही एक मामला सामने आया है जिसमे एक निसंतान दंपति द्वारा संतान प्राप्ति के चक्कर मे अबोध बच्ची के साथ अमानवीय कृत्यों को अंजाम दिया गया।
घाटमपुर कांड: संतान प्राप्ति की चाहत में बच्ची का जिगर कलेजा निकालकर कच्चा खाया, मारने से पहले रेप को अंजाम दिया गया
Ghatampur case Uday Bulletin

कानून द्वारा दिये गए दंड की प्रकृति मूलत अपराध पर निर्धारित होती है लेकिन कोई भी अपराध और उसके बाद दिया गया दंड केवल इंसानो के लिए होता है। क्योकि इंसानी अपराध के भी दायरे होते है। जिनको साधारणतया अपराधियों द्वारा भी लांघा नहीं जाता लेकिन उस अपराध का क्या जो वीभत्सता की सीमाओं को पार कर जाए। कानपुर जिले के घाटमपुर क्षेत्र में एक बेहद चौका देने वाला मामला सामने आया है। छह साल की बच्ची को मारकर उसका कलेजा निकालकर खाया और हत्या से पहले लड़की के साथ बलात्कार किया गया।

संतान पाने के चक्कर मे हुई वारदात:

एक ओर जहां व्यक्ति चांद और मंगल पर जाने की तैयारी में है तो वहीं कुछ लोग बच्चे पाने के लिए अस्पतालों के चक्कर काटने की बजाय तंत्र मंत्र का सहारा ले रहे है। उत्तर प्रदेश के घाटमपुर कोतवाली क्षेत्र में एक बच्चे के शरीर से अंग गायब होने की सूचना इलाके में फैल गयी। स्थानीय पुलिस ने बच्ची के शव की जांच की और पाया कि बच्ची के साथ बेहद अमानवीय व्यवहार किया गया है।

दरअसल दीपावली के दिन घाटमपुर के भदरस गांव से सात वर्षीय बच्ची के गायब होने की सूचना पुलिस को परिजनों द्वारा दी गयी। परिजनों ने बताया कि बच्ची को पटाखे दिलाने के बहाने एक किशोर अपने साथ ले कर गया था। स्थानीय पुलिस ने अन्य लोगों के साथ बच्ची की तलाश शुरू की तो गांव के बाहर खेतो के पास में बने काली मंदिर के बाहर बच्ची का छत विछत शव पाया गया। बच्ची के शरीर से पेट को फाड़कर बड़ी आंत, यकृत, फेफड़ा ,हृदय इत्यादि को निकाला गया था। लोगों ने शरीर की हालत देखकर यह अंदाजा भी लगाया कि बच्ची के साथ दुष्कर्म को भी अंजाम दिया गया है।

स्थिति देखकर पुलिस ने तंत्र मंत्र एंगल से जांच की:

चूंकि मौके पर उपलब्ध लोगों ने यह पाया कि बच्ची के शरीर की स्थिति ऐसी लग रही थी मानो इसे किसी तांत्रिक अनुष्ठान में बैठाया गया हो। सात साल की बच्ची के पैरों में रंग लगाया गया था और माथे पर तरह तरह के टीके लगाए गए थे। लोगों ने इसे नरबलि का प्रकार बताया। पुलिस ने शंका के आधार पर ही गांव के परशुराम को अपनी हिरासत में लेकर पूंछताछ की और परशुराम ने पुलिस के सामने टूट कर पूरी घटना का सच उगल दिया।

महज डेढ़ हजार रुपये देकर कराई हत्या:

मामले में पुलिस को जानकारी देते हुए बताया कि उसे लंबे वक्त से संतान उत्पन्न नहीं हो रही थी। ऐसे में वह लंबे वक्त से अस्पतालों और नीम हकीमो के चक्कर काट कर थक चुका था। उसने कही पढ़ रखा था कि अगर किसी नाबालिग बच्ची के अंगों को निकालकर पति पत्नी दोनों खाये तो संतान उत्पन्न होती है। ऐसे में उसने गांव के ही साथी विरन कुरील और अपने किशोर भतीजे अंकुल को महज डेढ़ हजार की रकम देकर इस काम को करने के लिए राजी कर लिया। इस घटना को अंजाम देने के लिए कुरील को 1000 जबकि अंकल को 500 रुपये दिए गए।

एक साजिस के तहत अंकुल बच्ची को पटाखे दिलाने के बहाने ले गया और उसके बाद तांत्रिक अनुष्ठान के तहत बच्ची के पैरों में रंग टीका इत्यादि लगाया गया और बच्ची को जंगल मे ले जाकर अंकुल और वीरन ने जमकर शराब पी साथ ही बच्ची के साथ दुष्कर्म को अंजाम दिया। शराब के नशे में ही दोनो व्यक्तियों ने सात वर्षीय बच्ची का गला काटकर हत्या कर दी और शरीर के अंदरूनी अंग निकालकर एक पालीथीन में भरकर परशुराम के घर तक पहुँचाये। जिन्हें खुद परशुराम और उसकी पत्नी सुनैना ने कच्चा खाया बाकी बचे अंगों को कुत्तों को खिला दिया गया मामले के खुलाशे के बाद पुलिस ने परशुराम समेत अंकुल और विरन को गिरफ्तार करके कानून संगत धाराओं के तहत जेल भेज दिया है।

सरकार ने कहा कोई रियायत नही:

मामले की जानकारी होते ही प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने संज्ञान लेते हुए पीड़ित परिवार को पांच लाख की त्वरित राहत चेक के माध्यम से पहुंचाई साथ ही स्थानीय विधायक द्वारा 2 बीघे कृषि योग्य जमीन के पट्टे का आश्वासन दिया है।

इस घटना के बाद पूरे क्षेत्र में तनाव व्याप्त है पुलिस ने शांति व्यवस्था बनाये रखने के लिए क्षेत्र में अतरिक्त पुलिस बल को डिप्लॉय किया है तथा सभी लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की है। पुलिस ने पीड़ित परिवार से अपील की है कि वह हर हालत में दोषियों को कड़ी सजा दिलवाएगी।

⚡️ उदय बुलेटिन को गूगल न्यूज़, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें। आपको यह न्यूज़ कैसी लगी कमेंट बॉक्स में अपनी राय दें।

Related Stories

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com