five family members of brahmin family murdered in etah district uttar pradesh
five family members of brahmin family murdered in etah district uttar pradesh|Social Media
टॉप न्यूज़

परशुराम जन्मोत्सव के दिन एटा में हुई पांच ब्राम्हणों की हत्या, प्रशासन मौन 

अगर इस लॉक डाउन में भी इस तरह की घटना को अंजाम दिया जाता है तो यह प्रशासन के मुँह पर एक तमाचे जैसा है। हत्यारों ने दुधमुंहे बच्चे तक को नहीं छोड़ा, सभी लोगों की गला रेत कर हत्या की गई है। 

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

बड़ा दर्दनाक मंजर था :

जनपद एटा के मुहल्ला श्रंगार नगर में एक ही परिवार के राजेश्वर पचौरी उम्र 75 वर्ष ( पूर्व स्वास्थ्य विभाग कर्मी), दिव्या पचौरी उम्र 35 वर्ष, आयुष पचौरी उम्र लगभग 8 वर्ष, बहू दिव्या पचौरी की बहन बुलबुल उपाध्याय उम्र लगभग 26 वर्ष, और छोटू उम्र एक वर्ष से भी कम की बड़ी बेरहमी से गला रेतकर हत्या कर दी गयी। यहां आपको बताते चले कि सेवानिवृत्त कर्मी का बेटा उत्तराखंड के रुड़की में रहकर एक दवा कंपनी में काम करता है। पूरे मामले पर स्थानीय पुलिस कुछ भी कहने से बच रही है। पुलिस इस मामले पर आत्महत्या और हत्या दोनो के एंगल से जांच कर रही है।

यूपी में ब्राह्मणों की जान इतनी सस्ती हो गई है क्या? आज परशुराम जयंती के दिन एटा में एक ही ब्राह्मण परिवार के पांच...

Posted by Piyush Mishra on Saturday, April 25, 2020

ये आत्महत्या नहीं हो सकती:

पड़ोसियों के अनुसार मृतक राजेश्वर प्रसाद पचौरी के घर में किसी प्रकार का ग्रह क्लेश या विरोध नहीं था, बल्कि पति के बाहर होने की वजह से मदद के लिए बहू दिव्या पचौरी ने अपनी छोटी बहन बुलबुल को अपनी ससुराल बुला लिया था। पति लॉक डाउन की वजह से उत्तराखंड में फ़सा हुआ था।किसी ने या तो आपसी रंजिश निकालने या फिर लूटपाट के इरादे से घर मे घुसकर इस घटना को अंजाम दिया है चूंकि घर मे किसी प्रकार के संघर्ष के निशान भी नहीं मिले है इसलिए इस मामले पर पुलिस को खासा मशक्कत करनी पड़ रही है।

परशुराम जन्मोत्सव पर हुआ हादसा :

समय की विडंबना तो देखिए ब्राम्हण शिरोमणि भगवान परशुराम का जन्मोत्सव के दिन एक ही घर के सदस्यों की हत्या कर दी गयी हत्यारों ने अबोध बच्चे को भी नहीं छोड़ा। लोगों ने सरकार से इस मामले पर जांच के बाद दोषियों को कड़ी सजा दिलाने की मांग रखी है मामले पर सरकार की तेजी न होने पर सरकार को कड़े आंदोलन के लिए भी तैयार रहना होगा।

उदय बुलेटिन के साथ फेसबुक और ट्विटर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com