सत्ता से दूर फारूक अब्दुल्ला के बिगड़े बोल, कहा चीन की मदद से कश्मीर में फिर से कायम करेंगे धारा 370

फारूक अब्दुल्ला भारत को चीन का गुलाम बनाना चाहते, बोले कश्मीर के लोग चाहते हैं कि चीन उन पर शासन करे
सत्ता से दूर फारूक अब्दुल्ला के बिगड़े बोल, कहा चीन की मदद से कश्मीर में फिर से कायम करेंगे धारा 370
फारूक अब्दुल्ला के बिगड़े बोलउदय बुलेटिन

इसे सत्ता से दूर पहुँच जाने का गम कहे या फिर खिसियानी बिल्ली खंबा नोचने वाली बात कही जाए दोनो बात एक ही नजर आती हैं, इस दौरान जब भारतीय नेतृत्व और भारतीय सेना कश्मीर में पाकिस्तान समर्थित आतंकवाद को घुटनों पर लाकर खड़ा कर रही है ऐसे वक्त में फारूक अब्दुल्ला देश विरोधी ताकतों को अपने बयानों से बढ़ावा देने का प्रयास कर रहे हैं।

फारूक ने एक बार फिर बिगाड़े सुर:

अगर बात फारूक अब्दुल्ला की हो और कंट्रोवर्सी न हो ऐसा होना लगभग नामुमकिन है फिर चाहे बयानों के तर्क कुतर्क हो या कुछ और बवाल खड़ा होना तय है। बीते काफी समय से फारूक अपनी सियासत की कुर्सी के उन पायो को संभालने का प्रयास कर रहे है जिसके नीचे अब वैसी जमीन ही नही बची जिसकी वो उम्मीद पाल बैठे थे। दरअसल जम्मू और कश्मीर को विशेष राज्य के दर्जे और कानूनी पेचीदगियां होने की वजह से फारूक और उनके राजनीतिक उत्तराधिकारी इस लूप होल का फॉयदा आजादी के बाद से उठा रहे थे लेकिन मोदी सरकार के क्रांतिकारी निर्णय (धारा 370 हटाने) की वजह से घाटी के अन्य अलगाववादी नेताओं के साथ-साथ फारूक की सियासत का किला धड़ाम हो चुका है।

कश्मीर की सियासत के बारे में यह कहा जाता रहा है कि वह कश्मीर के मौसम के तरह ही अप्रत्याशित रही है, क्या पता कब बर्फबारी हो जाये, बीते कुछ वर्षों में इसकी राजनीति में बहुत सारे बदलाव आए है, जिसकी वजह से बहुत सारे नेताओं को कश्मीर के कानूनी पेंच तोड़कर भारत के पूर्ण संविधान को लागू करने की बात रास नहीं आई है और फारूक ने शायद इसी कसक की वजह से कश्मीर में पुनः धारा 370 कायम कराने के लिए चीन की कहानी सुनाई है।

नेशनल कांफ्रेंस के नेता और जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला ने अपने बयान में कहा कि "वह उम्मीद रखते है कि कश्मीर में चीन की मदद से धारा 370 और 35 A को दोबारा बहाल किया जाएगा" फारूक ने आगे अपनी बात बढ़ाते हुए कहा कि उनकी प्रतिबद्धता जम्मू एवं कश्मीर में धारा 370 और 35 ए को बहाल करने के लिए है, जिसके लिए वह लगातार प्रयास करते रहेंगे।

भाजपा ने बताया देशद्रोह करने जैसा काम:

फारूक के इस बयान के बाद भाजपा फारूक पर बेहद मुखर होकर बोल रही है, भाजपा के फायर ब्रांड प्रवक्ता संबित पात्रा ने अब्दुल्ला के इस बयान को आड़े हाँथ लिया है और बताया कि फारूक अब्दुल्ला अपने निर्देशक राहुल गांधी की तरह बेसिर-पैर की बयानबाजी कर रहे है। संबित ने बताया कि एक वक्त जब देश की सेना ने पाकिस्तान पर सर्जिकल स्ट्राइक करके पाक के मनोबल और अहम को ठेस पहुंचाई थी और भारत के सिर को गर्व से ऊंचा किया था, उस वक्त राहुल गांधी ने सर्जिकल स्ट्राइक के सुबूत मांगे थे और उनके इस बयान को पाकिस्तान ने किसी मेडल की तरह लिया था। उनके बयानों की वजह से राहुल पाकिस्तान में हीरो बन गए थे और अब उनके नक्शे कदम पर चलकर फारूक ने भी खुद को चीन का हीरो बनने का दांव खेला है। संबित ने अपने वक्तव्य में फारूक के इस कदम को देश तोड़ने वाला और देशद्रोह की भावना से ओतप्रोत बताया।

खैर राजनैतिक मसले है निजी हित और स्वार्थों के चलते बयानबाजी होना बेहद आम है लेकिन इस स्तर पर गिरकर देश की संप्रभुता को ठेस पहुँचाना बेहद गैर जिम्मेदाराना है, उम्मीद है भविष्य में भारत के नेता अपने निजी स्वार्थ साधने के चक्कर मे उटपटांग बयानबाजी करके विरोधी देशों का मनोबल न बढ़ाये।

⚡️ उदय बुलेटिन को गूगल न्यूज़, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें। आपको यह न्यूज़ कैसी लगी कमेंट बॉक्स में अपनी राय दें।

Related Stories

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com