उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी |PMIndia
टॉप न्यूज़

नोटबंदी की सालगिरह: प्रधानमंत्री मोदी ने देश की ‘अर्थव्यवस्था तबाह’ की, जनता से माफी मांगे मोदी 

नोटबंदी के 8 नवंबर को दो साल पूरे होने वाले हैं इस पर कांग्रेस ने मोदी सरकार पर जमकर हमला बोला, कांग्रेस ने कहा कि नोटबंदी के दो साल होने पर वह शुक्रवार को राष्ट्रव्यापी प्रदर्शन करेगी। 

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

नई दिल्ली | कांग्रेस ने मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से नोटबंदी को लेकर देश से माफी मांगने को कहा, जिसके कारण अर्थव्यवस्था 'तबाह' हो गई। कांग्रेस ने कहा कि शुक्रवार को नोटबंदी की दूसरी सालगिरह पर देशव्यापी विरोध-प्रदर्शन आयोजित किया जाएगा।

कांग्रेस प्रवक्ता मनीष तिवारी ने ट्वीट किया, "दो साल पहले प्रधानमंत्री ने नोटबंदी की घोषणा की थी और इसे लागू करने के तीन कारण गिनाए थे। पहला इससे काला धन पर रोक लगेगी, दूसरा नकली मुद्रा पर रोक लगेगी और तीसरा आंतकवाद के वित्त पोषण पर रोक लगेगी, लेकिन इसमें से एक भी उद्देश्य पूरा नहीं हुआ।"

उन्होंने कहा, "वास्तव में, अब प्रचलन में दो साल पहले की तुलना में ज्यादा नकदी आई है, जब मोदी ने नोटबंदी की घोषणा की थी।"

कांग्रेस नेता ने कहा कि मोदी को देशवासियों से 500 और 1000 रुपये के नोटों को बंद करने के अपने 'तुगलकी फरमान' के लिए आठ नवंबर को (नोटबंदी की सालगिरह पर) माफी मांगनी चाहिए।

तिवारी ने कहा, "प्रधानमंत्री को देश की अर्थव्यवस्था को तबाह और ध्वस्त करने के लिए आठ नवंबर, 2018 को देशवासियों से माफी मांगनी चाहिए।"

कांग्रेस प्रवक्ता मनीष तिवारी ने कहा कि दो साल पहले आठ नवंबर को प्रधानमंत्री ने राष्ट्र को संबोधित करते हुए तकरीबन 16.99 लाख करोड़ रुपये मूल्य की मुद्रा को चलन से बाहर कर दिया था। नोटबंदी जैसे तुगलकी फरमान से देश की अर्थव्यवस्था को पूरी तरह से ध्वस्त करने के विरोध में आठ नवंबर को कांग्रेस के नेता और कार्यकर्ता सड़कों पर उतर कर देशव्यापी विरोध प्रदर्शन करेंगे।

कांग्रेस प्रवक्ता ने मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए कहा आज भारतीय अर्थव्यवस्थ में आठ नवंबर 2016 की तुलना में कहीं ज्यादा नगदी चलन में हैं। प्रधानमंत्री को अपनी इस गलती के लिए देश से मांफी मांगनी चाहिए। यह पूछे जाने पर कि क्या कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी प्रदर्शन में हिस्सा लेंगे, उन्होंने कहा कि सभी नेता और कार्यकर्ता हिस्सा लेंगे।