shahrukh delhi riots
shahrukh delhi riots|Google Image
टॉप न्यूज़

दिल्ली दंगे के बन्दूकबाज शाहरुख को हाईकोर्ट ने रेल दिया

दिल्ली दंगे में गोली चलाने वाले पोस्टरबाज लड़के शाहरुख के खिलाफ दिल्ली पुलिस ने पर्याप्त सबूत जुटा कर अपनी गिरफ्त में लिया था और अब शाहरुख जमानत के लिए हर जगह मिन्नतें कर रहा है।

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

हाईकोर्ट ने फिल्मी स्टाइल में लताड़ा:

दरअसल सफूरा जरगर को मानवीय आधार पर जमानत मिलने के बाद दिल्ली दंगे में पोस्टर ब्वाय बने शाहरुख के वकील ने हाईकोर्ट में जमानत की अर्जी डाल दी और हाईकोर्ट ने मामले की गंभीरता के चलते शाहरुख को दौड़ा लिया हाईकोर्ट ने अपने बयान में जोड़ते हुए कहा कि

अगर तुम कानून हाँथ में लेते हो और हीरो बनने की कोशिश करते हो तो आपको कानून के नियमों और दंड का सामना करना पड़ेगा। आप फायरिंग करके खुद को हीरो बनने की कोशिश कर रहे थे।
दिल्ली हाईकोर्ट

कौन है शाहरुख?

शाहरुख दिल्ली दंगे का वह पोस्टर ब्वाय है जिसने दंगे के बीच उपद्रवियों के पक्ष में आकर पुलिस पर आठ राउंड फायर किए थे और दिल्ली पुलिस के जवान पर पिस्टल तान दी थी। हालांकि दिल्ली पुलिस के जवान ने बिना डरे हुए शाहरुख के सामने खड़ा होकर कानून के प्रति अपनी निष्ठा दिखाई थी। बाद में दिल्ली पुलिस ने तहकीकात करके सुबूत इकट्ठा किये और सीसीटीवी फुटेज की मदद से शाहरुख को उत्तर प्रदेश से करके गिरिफ्तार कर लिया था।

क्या था जमानत का आधार?

दरअसल शाहरुख के वकील ने जमानत के लिए कोर्ट के सामने कहा कि शाहरुख अपने घर मे अकेला है और शाहरुख के पिता 76 वर्षीय बुजुर्ग है और बीमार है उनकी सेवा इलाज के लिए शाहरुख को जमानत मिलनी चाहिए लेकिन इस पर हाईकोर्ट ने साफ साफ लहजे में कहा कि " जब वो ( शाहरुख ) गोलियां चला रहा था और पिस्टल लहरा रहा था तब उसके दिमाग मे बूढ़े पिता नहीं थे? जब तुम्हारे द्वारा अपराध किया जा रहा था तब तुम हर किसी को भूल गए थे अब जब आरोप सिद्ध हो चुके हैं तब माता-पिता की याद आ रही है।

उदय बुलेटिन के साथ फेसबुक और ट्विटर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com